लॉकडाउन के बीच कथित तौर पर कोरोना वायरस फैलाने का आरोप लगाते हुए पंजाब के होशियारपुर जिले में मुस्लिम गुज्जर समुदाय के लोगों को पीटने का मामला सामने आया है।

द वायर में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, पंजाब के होशियारपुर जिले में मुस्लिम गुज्जर समुदाय से संबंधित दूध विक्रेताओं को कुछ हिंदू बहुल गावों में पीटा गया। रिपोर्ट में कहा गया है, “होशियारपुर जिले के हाजिरपुर और तलवारा प्रखंड में मुस्लिम गुज्जर समुदाय के कई परिवारों को हिंदू बहुल गांवों में बेकाबू भीड़ ने कथित तौर पर पीटा।

रिपोर्ट में बताया गया कि सामाजिक बहिष्कार के बीच गुज्जरों को सैकड़ों लीटर दूध ब्यास नदी की ओर बहने वाले नाले में फेंकना पड़ा क्योंकि उन्हें अपनी झोपड़ियों से बाहर निकलने की इजाजत नहीं दी गई।

बता दें कि निज़ामुद्दीन मरकज मामले के सामने आने के बाद बड़े पैमाने पर मुस्लिमों के खिलाफ फेक न्यूज़ फैलाई गई। जिसके चलते देश भर में मुस्लिमों के साथ हिंसा और सामाजिक बहिष्कार के मामले सामने आ रहे है। दिल्ली, हिमाचल, उत्तराखंड, कर्नाटक, पंजाब आदि में मुस्लिमों के साथ हिं’सा की गई।

इस बीच वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन इमरजेंसी प्रोग्राम के डायरेक्टर माइक रायन ने COVID-19 मामलों को धार्मिक रंग देने पर भारत सरकार की आलोचना भी की है। उन्होंने कहा, “COVID-19 का मरीज होना किसी का गुनाह नहीं है हर मामले में कोई पीड़ित है। यह बहुत अहम है कि हम नस्ल, धर्म और पहचान के आधार पर मामलों को न देखें।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन