p2

बुधवार शाम को तमिलनाडु में 30 वर्षीय उषा अपने पति के साथ दोपहिया वाहन चला रही थी. चूंकि दोनों हेलमेट के बिना बाइक चला रहे थे. ऐसे में एक पुलिसकर्मी ने जब उन्हें रुकने के लिए कहा तो वे नहीं रुके. पुलिसकर्मी ने उनका बाइक से पीछा किया और चलती बाइक से धक्का मारा. जिसे पति-पत्नी का एक्सीडेंट हो गया.

4 महीने की गर्भवती उषा, गंभीर रूप से घायल हो गई और मौके पर ही उसकी मौत हो गई. दोनों को पास के अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. आरोपी पुलिसकर्मी की पहचान कामराज के रूप में हुई है.

इस घटना के बाद 3,000 प्रदर्शनकारियों ने पुलिस की बर्बरता के विरोध में जमकर प्रदर्शन किया. भीड़ में कुछ लोगों ने पथराव भी किया. जिसके चलते पुलिस को लाठीचाप भी करना पड़ा. बाद में, पुलिस अधिकारियों ने आंदोलनकारियों को शांत करने की कोशिश की और उन्हें आश्वासन दिया कि दोषी निरीक्षक को गिरफ्तार किया जाएगा.

The deceased, Usha. (Source: The Indian Express)

इस दौरान कामराज को भी एक अस्पताल में पाया गया क्योंकि वह भी घटना के दौरान घायल हो गया था. हालांकि पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया. उसके खिलाफ गैरआदतन हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है.

हालाँकि पुलिस क्रूरता का यह पहला मामला नहीं है. कुछ महीने पहले, यातायात निरीक्षक ने हेलमेट पहनने के लिए एक सवारी के साथ को मारा था.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?