uttar pradesh 13 620x400

लखनऊ. उत्तरप्रदेश पुलिस के एक कांस्टेबल पर एपल के एरिया मैनेजर को गोली मारकर हत्या करने का आरोप लगा है। राजधानी लखनऊ में पुलिस कॉन्सटेबल ने कार नहीं रोकने पर एप्पल कंपनी के एरिया मैनेजर की गोली मार दी।जिससे उनकी मौत हो गई।

जानकारी के अनुसार, घटना शुक्रवार देर रात करीब डेढ़ बजे की है। कार में विवेक तिवारी के साथ सना नामक युवती भी थी। सना भी विवेक के साथ मशहूर एपल में कार्यरत है। पुलिस का कहना है कि चेकिंग दौरान काले रंग की महिंद्रा एक्सयूवी 500 कार को रोकने का इशारा किया गया। कार सवार ने गाड़ी की स्पीड तेज कर दी, जिससे पुलिस की बाइक पर सवार दो कॉन्टेबल को चोट लग गई। इनमें से एक ने कार पर गोली चला दी। विवेक एेपल में एरिया सेल्स मैनेजर के पद पर कार्यरत थे। विवेक तिवारी के परिवार में दो बहने हैं।

एसएसपी के मुताबिक आरोपी कॉन्स्टेबल को गिरफ्तार कर लिया गया है और उसने पूछताछ हो रही है। लखनऊ के एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि गोमतीनगर थाने कॉन्टेबल के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि शिकायतकर्ता सना खान ने बताया है कि कल देर रात अपने कलीग विवेक तिवारी के साथ घर जा रही थीं। सीएमएस गोमतीनगर विस्तार के पास उनकी गाड़ी खड़ी थी, तभी सामने से दो पुलिसवाले आए और इन्होंने बचकर निकलने की कोशिश की।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस घटना में मारे गए विवेक तिवारी के परिजन काफी नाराज और दुखी हैं। विवेक तिवारी की पत्नी कल्पना तिवारी तो इस वाकये से इतनी नाराज हैं कि उन्होंने यहां तक कह दिया है कि जब तक अंतिम संस्कार में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नहीं आएंगे, तब तक अंतिम संस्कार नहीं किया जाएगा। उन्होंने बताया कि “वह 2 बजे से लगातार अपने पति को फोन कर रही थी, लेकिन कोई कॉल रिसीव नहीं हुई। बाद में 3 बजे के करीब कॉल रिसीव हुई तो लोहिया अस्पताल के कर्मचारी ने फोन उठाया और कहा कि आपके पति और उनके साथ वाली महिला को हल्की चोटें आयी हैं।”

कल्पना तिवारी ने सवाल उठाया कि “इतने समय तक भी पुलिस का फोन क्यों नहीं आया? इसके बाद जब मैं अस्पताल पहुंची तो पता चला कि गाड़ी के सामने से गोली मारी गई है। कल्पना तिवारी ने कहा कि यदि वह लड़की के साथ संदिग्ध हालत में थे तो आप कार्रवाई करते, गाड़ी नहीं रोक रहे थे तो गाड़ी का नंबर नोट करके आरटीओ ऑफिस में जाकर घर का पता लगाकर यहां से गिरफ्तार करते पर गोली क्यों मारी?

कल्पना तिवारी ने आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस के आला अधिकारी सिर्फ मामले पर लीपापोती कर रहे हैं। मैं मांग करती हूं कि योगी आदित्यनाथ हमारे पास आएं और हमसे बात करें और मुझे बताएं कि विवेक कौन से आतंकवादी थे जो पुलिस ने उन पर गोली चलायी। उसके बाद ही बॉडी का कुछ होगा।”

Loading...