श्रीनगर। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने रविवार को कहा कि उनकी पार्टी जम्मू एवं कश्मीर में तब तक सरकार नहीं बनाएगी, जब तक यह सुनिश्चित न हो जाए कि सरकार बनाने से आम आदमी के बीच शांति और समृद्धि आ जाएगी। अनंतनाग जिले में पीडीपी कार्यकर्ताओं की एक रैली को संबोधित करते हुए महबूबा ने कहा कि आप ने मेरे पिता (मुफ्ती मुहम्मद सईद) पर आंख बंद करके भरोसा किया, लेकिन मुझ पर आंखें खोलकर भरोसा कीजिए। मैं और मेरे मंत्रियों के पास सायरन, झंडे और काफिले हों, इसके लिए राज्य में सत्ता हासिल करना मेरा उद्देश्य कभी नहीं होगा।

उन्होंने कहा कि यदि मैं सत्ता संभालने का निर्णय लूंगी तो यह शांति के लिए होगा। यह भारत और पाकिस्तान के बीच मित्रवत संबंधों के लिए होगा, जो जम्मू एवं कश्मीर में शांति के लिए आवश्यक है। महबूबा ने कहा कि ये सभी चीजें मौजूदा समय में खतरे में हैं। उन्होंने कहा कि युवा वर्ग हालात से नाराज है और उनमें से कुछ हथियार उठा रहे हैं। यह एक गंभीर स्थिति है।

आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच एक मुठभेड़ में हाल ही में उद्यमिता विकास संस्थान के नष्ट होने का जिक्र करते हुए महबूबा ने कहा कि यहां की विरासत को खतरा पैदा हो गया है और उसे नष्ट किया जा रहा है। महबूबा ने कहा कि मेरी पार्टी की मुख्य चुनौती न नेशनल कांफ्रेंस है और न सत्ता। असल चुनौती मेरे दिवंगत पिता की विरासत को जारी रखने की है, जिन्होंने मुझसे अपने जीवन के अंतिम क्षण में कहा कि जिन कार्यकर्ताओं ने उनपर भरोसा किया और अनवरत समर्थन किया उनके लिए कुछ न कर पाने का उन्हें दुख है। मेरी चुनौती वही है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

कश्मीर में इस बात की चर्चा हैं कि केंद्रीय बजट के बाद राज्य में पीडीपी-भाजपा की गठबंधन सरकार सत्ता संभालेगी। बजट संसद में सोमवार को पेश किया जाएगा। चर्चा यह भी है कि केंद्रीय बजट में राज्य के लिए दो स्मार्ट शहरों की घोषणा के साथ एक वित्तीय पैकेज शामिल हो सकता है। इसके साथ ही एनएचपीसी से दो जल विद्युत परियोजनाएं वापस खरीदने के लिए वित्तीय सहायता की घोषणा की जा सकती है। (ibnlive)