सूचना के अधिकार के तहत रामदेव की कंपनी पतंजलि को सस्ते दामों पर मिली जमीन के बारें में जानकारी देने पर दो दो सूचना अधिकारियों (पीआईओ) का महाराष्ट्र सरकार ने तबादला कर दिया.

दरअसल, पब्लिक आरटीआई डॉक्युमेंट बनाने के दौरान इन दोनों अधिकारियों ने पतंजलि को  1 करोड़ रुपये प्रति एकड़ के भाव वाली जमीन सिर्फ 25 लाख रुपये एकड़ के भाव में देने के बारें में जानकारी दी थी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

ध्यान रहे पतंजलि आयुर्वेद नागपुर में इस 600 एकड़ जमीन में फूड पार्क बनाना चाहती है. इस पूरी डील में कथित तौर पर राज्य सरकार की और से एक तरफा फायदा पहुँचाया गया.

यह जमीन महाराष्ट्र एयरपोर्ट डिवेलपमेंट कंपनी (एमएडीसी) से जुड़ी है. ऐसे में एमएडीसी के मार्केटिंग मैनेजर और नागपुर ब्रांच में पीआईओ अतुल ठाकरे का तबादला मुंबई हेडऑफिस में और मार्केटिंग मैनेजर समीर गोखले का तबादला मुंबई से नागपुर ब्रांच में कर दिया गया.

 इस बारे में ठाकरे ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, ‘कंपनी के पूर्व एमडी ने मेरे प्रमोशन की बात कही थी लेकिन अचानक मेरा ट्रांसफर हो गया. वहीं गोखले कहते हैं कि ट्रांसफर प्रशासनिक कारणों से किया गया है. पूर्व केंद्रीय सूचना आयुक्त शैलेश गांधी ने इस मामले में कहा कि इस नियम का पालन करने पर अत्याचार का साफ मामला है.