पहलू खान के केस की हो दोबारा जांच, राजस्थान पुलिस ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार

1:14 pm Published by:-Hindi News

गौरक्षा के नाम पर की पीट-पीट कर की गई पहलू खान की ह’त्या के मामले में राजस्थान सरकार फिर से जांच चाहती है। राजस्थान सरकार ने हाईकोर्ट में याचिका दायर करके कहा है कि चार्जशीट फाइल हो गई है, लेकिन इस मामले की एक बार फिर से जांच होनी चाहिए।

करीब दो वर्ष पूर्व इस मामले में राजस्थान पुलिस ने मृतक पहलू खान व उसके दोनों पुत्रों इरशाद व आरिफ सहित टेम्पो ड्राइवर खान महोमद पुत्र अहमद के खिलाफ आरबीसी की धारा 5 ,6 , 8 व 9 तहत चार्जशीट पेश की है। पुलिस के मुताबिक, पहलू खान भी आरोपी था, लेकिन जीवित न होने की वजह से चार्जशीट में उसका नाम शामिल नहीं किया गया।

सोमवार को अलवर के एसपी परिस देशमुख ने द इंडियन एक्सप्रेस से कहा, ‘उन्होंने (खान के परिवार) पुलिस के पास एक आवेदन दिया है। उसका मुआयना करने के बाद हमने शनिवार को कोर्ट में आवेदन किया। हमने मांग की कि आगे की जांच के लिए फाइलें वापस की जाएं। कोर्ट को अभी फैसला लेना है।’

अधिकारी ने बताया, ‘परिवार ने दावा किया है कि वे मवेशियों को अलवर जिले के टापूकरा ले जा रहे थे। वहीं, मालिक ने दावा किया है कि उसने घटना से पहले ट्रक बेच दिया था। हम इन बिंदुओं की दोबारा से जांच करना चाहते हैं।’

इस मामले में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि अगर मामले में गलत जांच हुई तो सरकार उसे देखेगी। गलत जांच होने की स्थिति में दोबारा जांच करवाया जाएगा। ऐसे मामलों को लेकर कांग्रेस अपने स्टैंड पर कायम है। गहलोत ने यह भी कहा कि कांग्रेस ऐसे मामलों की निंदा करती है। कानून को हाथ मे लेने का किसी को अधिकार किसी को भी नहीं है।

इस मामले में मृतक पहलू खान की तरफ से पैरवी कर रहे एडवोकेट अख्तर खां का मानना है कि आरबीए एक्ट के तहत एक स्टेट से दूसरे स्टेट में ले जाये जा रहे गोवंश बिना अधिकारी की स्वीकृति और बॉर्डर पर पकड़े जाने पर इस एक्ट के तहत कार्यवाही बनती है, न कि एक ही स्टेट से उसी स्टेट में ले जाने पर, जबकि उनके पास रवन्ने भी मौजूद थे। जिस कारण यह चार्जशीट गलत है।

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें