मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुसलमीन (एमआईएम) के नेता अकबरद्दीन ओवैसी ने सदन में शून्यकाल के दौरान 2007 के मक्का मस्जिद बम विस्फोट मामले के आरोपी स्वामी असीमानंद की जमानत का मुद्दा उठाया.

एमआईएम विधायक ने मांग करते हुए कहा कि टीआरएस सरकार को इस मामले की जांच कर रही एजेंसी एनआईए पर दबाव डालना चाहिये ताकि यह सुनिश्चित किया जाये कि दक्षिणपंथी कार्यकर्ता स्वामी असीमानंद को मिली जमानत निरस्त हो. ओवैसी ने असीमानंद को दहशतगर्द बताते हुए कहा कि आतंकवादियों का कोई धर्म नहीं होता.

उन्होंने कहा, चाहे ओसामा बिन लादेन हो या असीमानंद हो, आतंकवादियों के साथ सख्ती से निपटा जाना चाहिये.  मुझे उम्मीद है कि सरकार असीमानंद की जमानत रद्द कराने और उसे अन्य आरोपियों के साथ वापस जेल भेजने के लिए एनआईए पर दबाव डालेगी. इसी के साथ उन्होंने सरकार सेे मक्का मस्जिद विस्फोट और उसके बाद हुये विस्फोटों पर भास्कर राव समिति की रिपोर्ट सार्वजनिक करने की मांग की.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

गृह मंत्री नयानी नरसिम्हा रेड्डी ने अपने जवाब में कहा, सदस्य अकबरद्दीन ओवैसी ने जो भी सवाल उठाया है वह जायज प्रश्न है. निश्चित तौर पर इस बात की जांच की जाएगी कि कैसे असीमानंद को जमानत मिली. जमानत निरस्त कराने के प्रयास किये जाएंगे. हम न्याय सुनिश्चित करेंगे.

Loading...