यूपी के गाजियाबाद जिले में वाल्मीकि समुदाय के करीब 236 लोगों ने हिंदू धर्म छोड़कर बौद्ध धर्म अपना लिया है। इतने बड़े पैमाने पर धर्म परिवर्तन की वजह उनकी हाथरस कांड को लेकर नाराजगी है।

गाजियाबाद के करहैड़ा गांव में 14 अक्टूबर को डॉ. बीआर अंबेडकर के पड़पोते राजरत्न अंबेडकर ने 50 परिवारों को बौद्ध धर्म की दीक्षा दिलाई। इस दौरान बौद्ध धर्म में शामिल होने वाले इन सभी लोगों ने गौतम बुद्ध की 22 प्रतिज्ञाएं भी पढ़ीं।

‘द प्रिंट’ के मुताबिक बौद्ध धर्म में शामिल हुए इन लोगों ने आरोप लगाया कि उनके गांव में सवर्ण समाज के लोग बहुसंख्यक हैं, जिस वजह से उनके साथ भेदभाव किया जाता है। ग्रामीणों ने बताया कि करहैड़ा गांव में कुल 9000 लोगों की आबादी है, जिसमें से 5000 लोग सवर्ण समाज से, 2000 लोग वाल्मीकि समुदाय से और अन्य 2000 लोग बाहर से आए हुए हैं।

पवन वाल्मीकि नामक शख्स ने कहा, ‘हाथरस की घटना के बाद योगी सरकार में हमारा भरोसा नहीं रहा है। हिंदू समाज के लोग हमें अपना नहीं मानते और मुस्लिम समाज हमें कभी स्वीकार नहीं करेगा। हाथरस में जो कुछ हुआ, उसके बाद हमें एहसास हो गया कि सरकार कभी ना हमें स्वीकार करेगी और ना हमारी मदद करेगी। तो हमारे सामने क्या विकल्प बचता है?’

वहीं, रज्जो वाल्मीकि नाम की 65 वर्षीय महिला ने बताया, ‘दिल्ली की निर्भया को सबसे अच्छे अस्पताल में इलाज मिला और मीडिया में कभी उसकी जाति सामने नहीं आई। हाथरस में हमारी बेटी के साथ बुरा बर्ताव किया गया, यहां तक कि डॉक्टर और पुलिस ने भी उसके शव के साथ कोई हमदर्दी नहीं दिखाई। मीडिया क्यों उनके परिवार को परेशान कर रहा है? हमें ये एहसास दिला दिया गया है कि हम ‘कोई दूसरे’ हैं, निचली जाति से हैं।’

धर्म परिवर्तन करने वाले सभी लोगों को भारतीय बौद्ध महासभा की तरफ से एक प्रमाण पत्र भी जारी किया गया है। वहीं नगर निगम पार्षद विजेंद्र सिंह चौहान ने कहा है कि धर्म परिवर्तन की ऐसी कोई घटना गांव में नहीं हुई है।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano