shivr

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा नोटबंदी को लेकर किये गये फैसले पर पूरी भारतीय जनता पार्टी प्रधानमन्त्री के साथ नजर आ रही हैं. लेकिन साथ ही दबी जुबान में इससे हो रहे नुक्सान को लेकर अपनी चिंता भी जाहिर कर रही हैं.

नोटबंदी के कारण मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार को काफी नुक्सान हुआ हैं. जिसकी चिंता की लकीरे वित्तमंत्री जयंत मलैया के माथें पर साफ़ नजर आ रही हैं. नोटबंदी की वजह से मप्र के सरकारी खजाने को अब तक 275 करोड़ की चपत लग चुकी हैं. याद रहें कि मप्र का सरकारी खजाना पहले ही घाटे में चल रहा हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

राज्य में शराब की बिक्री में 33 फीसदी कमी आने की वजह से अाबकारी करों में 214 करोड़ रुपए की कमी आई हैं. पिछले साल नवंबर में सरकार को आबकारी कर से 639.03 करोड़ रुपए की राशि मिली थी. लेकिन इस बार  सरकार के खजाने में सिर्फ 424.14 करोड़ रुपए आए है.

वहीँ रजिस्ट्री से होने वाले राजस्व भी बुरी तरह प्रभावित हुआ है. पिछले साल की तुलना में रजिस्ट्री से होने वाली सरकार की आय 16 प्रतिशत तक गिरी हैं. राज्य सरकार को आबकारी, रजिस्ट्री और कमर्शियल टैक्स से इस बार 275 करोड़ रुपए का राजस्व कम मिला है.

Loading...