dead body

उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले में नोटबंदी के कारण एक रिटायर्ड रेलकर्मी की इलाज न कराने की वजह से मौत हो गई हैं. परिवार ने इस बारें में पुलिस में भी शिकायत की हैं.

दरअसल, 70 वर्षीय देवगांव निवासी रामरतन खंगार पिछले कुछ माह से बीमार थे और उनका इलाज कानपुर में चल रहा था. बीते दिनों पैसों के अभाव में उनका इलाज बंद हो गया था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

रिटायर्ड बुजुर्ग पिछले तीन दिन से गांव में खुली इलाहाबाद यूपी ग्रामीण बैंक में रुपये निकालने में लगे थे, मगर हर बार उन्हें खाली हाथ लौटना पड़ा.  शुक्रवार को वे पैसे के लिए वह सुमेरपुर कस्बे की एसबीआई शाखा पहुंचे, लेकिन लंबी लाइन के चलते उसे पैसा नहीं मिल सका.

इस दौरान रास्तें में उनकी तबियत खराब हो गई, वह रास्ते में गश खाकर गिर पड़े. परिजन रामरतन को कानपुर के अस्पताल ले गए. मगर पैसे न होने के कारण उसका इलाज नहीं हो सका. मजबूर परिजन बीमार रामरतन को घर ले आए, जहां उसने दम तोड़ दिया.

Loading...