लखनऊ। उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या और योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री रीता बहुगुणा जोशी कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य और विधायक रविन्द्र त्रिपाठी के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया गया है। स्पेशल कोर्ट ने यह गैर जमानती वारंट जारी किया है।

डिप्टी सीएम केशव मौर्य के खिलाफ दस वर्ष पुराने धोखाधड़ी के एक मुकदमे में गैरजमानती वारंट जारी करने का आदेश जारी किया है, इस मामले में 10 आरोपी बनाए गए है, मोहब्बतपुर पइंसा थाने पर 22 सितंबर, 2008 को दर्ज मुकदमो में आरोप है कि माँ दुर्गा कमेटी बनाकर तथा पैड छपवाकर अवैध रुप से धन वसूला गया।

वही कैबिनेट मंत्री रीता बहुगुणा जोशी की पत्रावली लखनऊ से अंतरित होकर आई, जिसमे इनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी करने का आदेश प्रभावी है, लखनऊ के वजीरगंज थाने में आईपीसी की धारा सरकारी आदेश की अवहेलना करने (188) लोगो का जीवन संकट में डालने (336) आईपीसी में मुकदमा दर्ज हुआ है,  घटना 16 फरवरी 2010 की है , इस मुकदमे को वापस लेने की अर्जी शासन की ओर से पेश भी की गई है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसी क्रम में स्वामी प्रसाद मौर्य के खिलाफ पडरौना कुशीनगर में दर्ज मुकदमे में आरोप लगाया कि 20 जनवरी 2012 को कर्पूरी ठाकुर जयंती समारोह में वोटरों को भोजन और रुपये बांट रहे थे। इस मामले में 24 दिसंबर 2013 से वारंट चल रहा है।

भदोही के विधायक रविन्द्र त्रिपाठी के खिलाफ पेश आरोप पत्र में कहा गया कि 17 जनवरी 2012 को अपने नाम और चिन्ह का कैलेंडर बांट रहे थे, इनके खिलाफ भी गैर जमानती वारंट जारी करने का आदेश जारी हुआ है।

Loading...