kerala love jihad
kerala love jihad
हादिया और शफिन जहाँ के भी प्रेम विवाह को लव जिहाद के रूप में प्रचारित किया गया था. ये मामला अब सर्व्वोच अदालत में है.

तिरुवनंतपुरम: केरल सरकार ने लव जिहाद के मामले में कहा कि राज्य सरकार को पुरे प्रदेश में लव जिहाद का कोई सबूत नहीं मिला है. राज्य सरकार ने यह दावा गृह विभाग द्वारा की गई जांच रिपोर्ट के सामने आने के बाद किया है.

केरल सरकार के गृह मंत्रालय की रिपोर्ट में बताया गया कि दक्षिणपंथी संगठनों के आरोपों का कोई आधार नहीं है. रिपोर्ट से साबित हो गया है कि संघ परिवार (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ) की तरफ से लव जिहाद के कथित मामलों को लेकर दी गई दलीलें पूरी तरह से गलत और बेबुनियाद है.

रिपोर्ट के मुताबिक, 2011 से 2016 तक कुल 7,299 लोग इस्लाम में परिवर्तित हुए. 2017 में लगभग 1,216 लोग इस्लाम में परिवर्तित हुए. उनमें से अधिकांश ने अपने करीबी हलकों में कुछ लोगों के प्रभाव के तहत इस्लाम का अनुसरण करने का फैसला किया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

साथ ही बताया गया है कि वित्तीय समस्याओं के कारण इन लोगों में से 64 प्रतिशत लोग इस धर्म में परिवर्तित हुए. गृह विभाग ने जांच के एक हिस्से के रूप में मालाबार क्षेत्र में इस्लाम धर्म में 568 लोगों का विवरण एकत्र किया है. त्रिशूर में सबसे ज्यादा संख्या में धर्म परिवर्तन हुए.

खुफिया अधिकारियों ने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने उन लोगों के वित्तीय लेनदेन की जांच करने को कहा है जिन्होंने इस्लाम धर्म अपनाया है.

Loading...