rss

अखिल भारतीय ब्राम्हण महासभा ने 38 अन्य अगड़ी जातीय समूहों के साथ यूपी में बीजेपी के खिलाफ मौर्चा खोल दिया है। सभी ने राजधानी लखनऊ में SC/ST Act में किए गए संशोधन के विरोध में जमकर प्रदर्शन भी किया।

ब्राम्हण महासभा के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की अगुवाई में हजरतगंज में हुए विरोध प्रदर्शन में मांग की गई कि एक्ट में संशोधन को तुरंत वापस लिया जाए और सुप्रीम कोर्ट के आदेश को लागू किया जाए, ताकि ऐसे मामलों में तुरंत गिरफ्तारी ना हो।

तिवारी ने कहा, हम इस बात की मांग भी करते हैं अनुसूचित जाति आयोग, अल्पसंख्यक आयोग और महिला आयोग की तरह सवर्ण आयोग बनाया जाए। बीजेपी ने 85 फीसदी लोगों के साथ धोखा किया है और उन्हें इसका परिणाम भुगतना पड़ेगा।

bjp

तिवारी ने यह भी कहा कि ‘जब तक बीजेपी खत्म नहीं हो जाती’ तब तक यह विरोध प्रदर्शन चलता रहेगा। तिवारी ने कहा, आरएसएस प्रमुख को ‘मेंटल चेक अप’ कराना चाहिए, ताकि वह लोगों का मत समझ सकें।

बता दें कि इससे पहले बाराबंकी जिले में, अगड़ी जातीय के लोगों ने गांव में पोस्टर लगाकर कहा कि मंत्रियों को नहीं आना चाहिए और वोट मांगना चाहिए। पोस्टर पर छपा था कि, ‘अगर इस गांव में कुछ भी अवांछित होता है तो वे खुद के लिए ज़िम्मेदार होंगे।’

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें