बिहार पुलिस इन दिनों राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ समेत 19 हिंदू संगठनों की कुंडली खंगाल रही है। पुलिस की स्पेशल ब्रांच ने 28 मई को एक पत्र को विभाग के सभी बड़े अधिकारियों को प्रेषित किया है।

इस पत्र में कहा गया कि सभी क्षेत्रीय पुलिस उपाधीक्षकों और सभी जिला विशेष शाखा पदाधिकारियों को निर्देश दिए जाते हैं कि एक हफ्ते में आरएसएस और उससे जुड़े सहयोगी संगठनों की पूरी जानकारी जुटाएं। इन संगठनों के पदाधिकारियों के नाम, पता, दूरभाष और व्यवसाय के बारे में जानकारी मांगी गई है।

स्पेशल ब्रांच की ओर से जारी इस पत्र में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ, विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल, हिंदू जागरण समिति, धर्म जागरण समन्वय समिति, मुस्लिम राष्ट्रीय मंच, हिंदू राष्ट्र सेना, राष्ट्रीय सेविका समिति, शिक्षा भारती, दुर्गा वाहिनी, स्वेदशी जागरण मंच, भारतीय किसान संघ, भारतीय मजदूर संघ, भारतीय रेलवे संघ, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, अखिल भारतीय शिक्षक महासंघ, हिंदू महासभा, हिंदू युवा वाहिनी, हिंदू पुत्र संगठन के पदाधिकारियों का नाम, पता, दूरभाष संख्या और व्यवसाय के बारे में जानकारी मांगा गया है।

इस आदेश की कॉपी सामने आने के बाद बिहार पुलिस के आला अधिकारी कुछ भी बोलने से बच रहे हैं। नाम न छापने की शर्त पर एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि ये रूटिन अभ्यास है। क्राइम ब्रांच की टीम नियमित अंतराल पर ऐसी जानकारी इकट्ठा करती रहती है।

बिहार सरकार के इस आदेश पर पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता संजय पासवान ने कहा कि बिहार की पुलिस सरकार के द्वारा संघ के लोगों के बारे में जानकारी जुटाने के आदेश देना काफी गंभीर मुद्दा है। इस पर बीजेपी और संघ दोनों गंभीरता से ले रही है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन