बिहार के भागलपुर में 700 करोड़ रु का एनजीओ घोटाला आमने आया है. जिसके तहत करोड़ो की राशि सरकारी खाते से अवैध निकासी कर सृजन विकास सहयोग नामक एनजीओ पहुंचाई जा रही थी.

इस मामले में डीएम ऑफिस का स्टेनो प्रेम कुमार और सृजन की प्रबंधक सरिता झा भी सहित इंडियन बैंक के क्लर्क को भी गिरफ्तार किया गया है. पटना में एडीजी मुख्यालय एसके सिंघल और भागलपुर में ईओयू के आईजी जितेन्द्र सिंह गंगवार ने यह जानकारी दी. जांच में सामने आया है कि अब तक 300 करोड़ रुपये से ज्यादा जो इस संस्था ने सरकारी खजाने से अवैध रुप से निकाले थे इस पैसे को बाजार में निवेश किया बल्कि रियल एस्टेट में भी लगाया. इन पैसों से लोगों को 16% ब्याज दर पर लोन भी मुहैया कराया गया.

भागलपुर के एसएसपी मनोज कुमार ने बताया कि यह संस्था दो तरीकों से इस पूरे सरकारी खजाने से अवैध निकासी का काम करती थी. एक तरीका था स्वीप मोड और दूसरा था चेक मोड. स्वीप मोड के जरिए भारी रकम राज्य सरकार या केंद्र सरकार द्वारा भागलपुर जिले के सरकारी खातों में जमा कराए जाते थे. स्वीप मोड में राज्य सरकार या केंद्र सरकार एक पत्र के माध्यम से बैंक को सूचित करती थी कितनी राशि बैंक में जमा करा दी गई है. बैंक के अधिकारी भी इस पूरे गोरखधंधे में शामिल थे. वह सरकारी खाते में इस पैसे को जमा नहीं दिखाकर सृजन के खाते में इस पूरे पैसे को जमा कर दिया करते थे.

दूसरा तरीका था चेक मोड, जहां पर राज्य सरकार या केंद्र सरकार जो भी पैसे भागलपुर जिले के सरकारी खातों में जमा कराना था वह चेक के माध्यम से किया जाता था. एक बार सरकारी खाते में चेक जमा हो जाता था तो फिर जिलाधिकारी के दफ्तर में शामिल कुछ लोग जो कि इस गोरखधंधे में हिस्सा थे जिलाधिकारी के फर्जी हस्ताक्षर से अगले दिन वही राशि सृजन के अकाउंट में जमा करा दिया करते थे.

इसी बीच राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने बीजेपी नेताओं शाहनवाज हुसैन और गिरिराज सिंह जैसे नेताओं पर आरोप लगाते हुए कहा कि इन नेताओं के इस एनजीओ की संस्‍थापक मनोरमा देवी से संबंध थे. मनोरमा देवी की इसी अप्रैल में मृत्‍यु हो गई. इन दोनों नेताओं की मनोरमा देवी के साथ फोटोग्राफ भी सामने आए हैं. याद रहे मनोरमा देवी पूरे गोरखधंधे की मास्टरमाइंड थी. हालांकि मनोरमा देवी के पुत्र और बहू, अमित कुमार और बेटी प्रिया कुमार फिलहाल फरार चल रहे हैं.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?