Wednesday, June 23, 2021

 

 

 

कुरान की बेहूरमती पर मुस्लिम देश दे दखल, वसीम रिजवी को दी जाए फांसी: रज़ा एकेडमी

- Advertisement -
- Advertisement -

मुंबई: उत्तर प्रदेश के शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमेन वसीम रिजवी के द्वारा 26 आयतों को हटाकर नए कुरान की घोषणा करने को लेकर रज़ा एकेडमी ने सोमवार को एक अहम बैठक की। जिसमे वसीम रिजवी के खिलाफ सख्त कार्रवाई को लेकर चर्चा हुई।

सय्यद मोईन मियां साहब के नेतृत्व में हुई इस बैठक में उन्होने कहा कि कुरान की अजमत की खातिर हम एक बार फिर से सुप्रीम कोर्ट जाएँगे। उन्होने कहा कि ये सब कुछ एक साजिश के तहत किया जा रहा है। रज़ा एकेडमी के प्रमुख अल्हाज सईद नूरी साहब ने कहा कि वसीम रिजवी इस बार भी अपमानित होगा। सुप्रीम कोर्ट इस मामले में पहले ही उस पर 50000 हज़ार रुपए का जुर्माना लगाकर उसकी याचिका को खारिज कर चुका है।

वहीं वरिष्ठ पत्रकार सरफराज आरजू साहब ने कहा कि कुरान सिर्फ हिंदुस्तान के मुस्लिमों की नहीं बल्कि दुनिया के भर मुसलमानों की एक पवित्र किताब है। जिसके अपमान को कोई बर्दाश्त नहीं कर सकता। उन्होने कहा कि वसीम रिजवी की साजिश में फंसने के बजाय उलेमा उन आयतों को लेकर आम लोगों को सही जानकारी दें।

सीनियर एडवोकेट रिजवान मर्चेन्ट ने मामले में कानूनी राय देते हुए बताया कि कुरान दुनिया के दो अरब मुस्लिमों की पाक किताब है। ऐसे में अंतराष्ट्रीय संगठनों सयुंक्त राष्ट्र, इस्लामिक सहयोग संगठन (OIC), अरब लीग, दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन (सार्क) आदि में शिकायत दर्ज कराई जाए। इसके साथ ही दुनिया भर के तमाम मुस्लिम देशों के भारत स्थित दूतावासो से भी इस मामले में हस्तक्षेप करने की अपील की जाये। उन्होने कहा कि मुस्लिम देशों के राजदूतों के जरिये उनकी सरकारों तक भारत में हो रहे मुसलमानों को लेकर फैलाई जा रही नफरत को लेकर भी आगाह किया जाये। जिसके तहत कुरान को भी निशाना बनाया जा रहा है।

वहीं मौलाना मुहम्मद अब्बास रिजवी ने कहा कि वसीम रिजवी पर जुर्माना लगाने वाली सुप्रीम कोर्ट को इस मामले में स्वत: संज्ञान लेकर कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। उन्होने ये भी कहा कि ये शिया-सुन्नी के बीच तनाव पैदा करने की साजिश है। जिसे मुसलमान सावधान रहे। किसी भी तरह की आक्रामक कार्रवाई से बचे।

इस मौके पर मौलाना सूफी मुहम्मद उमर नाजिम-ए-अला जामिया कादरिया अशरफिया मुंबई, मुहम्मद आरिफ रिजवी सचिव रजा अकादमी मुंबई, कारी मुश्ताक, सुन्नी बिलाल मस्जिद मुंबई के इमाम, मौलाना मुहम्मद आरिफ, मौलाना निजामुद्दीन खतीब वामा मस्जिद हुसैनी वर्ली मुंबई, मौलाना कमर रजा अशरफी कबा मस्जिद रंगवाला कंपाउंड बाइकुला मुंबई, मौलाना मोहम्मद फारूक निजामी जामिया कादरियाह अशरफिया मुंबई, मौलाना मोहम्मद राशिद हुसैन आगरा पारा मुंबई स्ट्रीट मुंबई, मौलाना अली हुसैन सोनापुर भांडुप, मौलाना जफरुद्दीन रिजवी खतीब और इमाम रजा जामिया मस्जिद मिलंद मुंबई, मौलाना रजब अली सोनापुर भांडुप मुंबई, मौलाना महमूद अली खान अशरफी प्रो. अल बरकत इंग्लिश हाई स्कूल मुंबई, हाफिज जुनैद रजा गुंडी, शेर खान शेर के अलावा अन्य विद्वान भी मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles