action should be against who want to destroy image of amu

देश के प्रतिष्ठित शिक्षा संस्थान अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) को यूएई के ख़लीफ़ा बिन जायद अल नाहयान फाउंडेशन की और से 2 मिलियन डॉलर की मदद देने की घोषणा की गई हैं. फाउंडेशन की और से विश्वविद्यालय के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज को  2 मिलियन डॉलर  क़ीमत का इलेक्टा सिनर्जी डिजिटल एक्सीलेटर मिलेगा.

ख़लीफ़ा फाउंडेशन ने इस बारें में कहा कि ये मदद उनके और VPS हेल्थकेयर, संयुक्त अरब अमीरात स्थित इंडियन हेल्थ केयर कंपनी के बीच सहयोग के माध्यम से संभव हुई है.  फाउंडेशन ने कहा कि ये मानवीय पहल सार्वजनिक-निजी भागीदारी के क्षेत्र में बढ़ावा देने, विशेष रूप से संयुक्त अरब अमीरात और संयुक्त अरब अमीरात में भारतीय कारोबार के बीच तालमेल का एक उदाहरण है.

फाउंडेशन की और से मदद की ये घोषणा ऐसे समय में हुई हैं जब अबू धाबी और संयुक्त अरब अमीरात सेना के डिप्टी सुप्रीम कमांडर शैख़ मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान भारत के 68 वें गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल होंगे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

ख़लीफ़ा बिन जायद अल नाहयान के डायरेक्टर जनरल मोहम्मद अल खौरी ने कहा कि अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के साथ संयुक्त अरब अमीरात के रिश्ते कोई नए नहीं हैं. संयुक्त अरब अमीरात के संस्थापक शेख जायद बिन सुल्तान अल नाहयान ने 1975 में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय का दौरा किया था. इस मदद पर अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के कुलपति ने डॉ ज़मीरुद्दीन शाह ने खलीफा फाउंडेशन और VPS हेल्थकेयर का शुक्रिया अदा किया हैं.

Loading...