बूढ़ी मां के विरोध के बाद जागी केजरीवाल सरकार, अब्दुल सबूर के परिवार को देगी मुआवजा

6:56 pm Published by:-Hindi News

दिल्ली के सिविल लाइन्स इलाके के ट्रामा सेंटर के नज़दीक दिल्ली पुलिस के शहीद जवान अब्दुल सबूर खान का परिवार कई दिनों से अनशन पर बैठा हुआ था। उनकी मांग केजरीवाल सरकार की और से पूरी कर दी गई है।

दिल्ली सरकार ने मंगलवार को शहीद मेजर अमित सागर समेत 14 शहीदों के नामों को मंजूरी दी जिनके परिजनों को एक-एक करोड़ रुपए की अनुग्रह राशि दी जाएगी। सरकार के एक बयान में कहा गया कि मेजर सागर के अलावा सूची में दिल्ली पुलिस के आठ शहीद और दिल्ली फायर सर्विस (डीएफएस) के पांच नाम शामिल हैं जिन्होंने ड्यूटी करते वक्त शहादत पाई।

विज्ञप्ति में कहा गया कि डीएफएस के पांच शहीदों के नाम फायरमैन सुनील कुमार, मंजीत सिंह, हरि सिंह मीणा, हरिओम और विजेंद्र पाल सिंह के अलावा दिल्ली पुलिस के आठ शहीद हेड कांस्टेबल राम कंवर मीणा व अब्दुल सबूर खान और कांस्टेबल योगेश कुमार, आनंद सिंह, बिनेश कुमार, यशवीर सिंह, रविंदर और दीपक कुमार का नाम भी शामिल हैं।

बता दें कि 4 मार्च 2016 को दिल्ली पुलिस में तैनात हेड कॉन्स्टेबल अब्दुल सबूर को एक ट्रक ने बुराड़ी के पास चेकिंग के दौरान कुचल दिया था। अब्दुल की घटनास्थल पर ही मौत हो गई थी। 80 साल की हनीफ खातून अपनी बहू मलका खातून के साथ पिछले 28 सितंबर से अनशन पर बैठीं है।

अब्दुल राजस्थान के करौली जिले के रहने वाले थे । उन्हें पूरे पुलिस सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई थी। अब्दुल घर में कमाने वाले अकेले सदस्य थे। अब्दुल के घर वालों का कहना है कि अब तक ढाई साल बीत गया है। लेकिन दिल्ली सरकार से कोई आर्थिक मदद नहीं मिली है और ना ही शहीद का दर्जा मिला।

आमरण अनशन हुआ ख़त्म।4 दिन से लगातार चल रहा शहीद अब्दुल सुबूर की 82 साल की बूढ़ी माँ और उनकी विधवा का आमरण अनशन को आम आदमी पार्टी के ज़रिये सभी conditions मान लेने के बाद दिल्ली सरकार के मंत्री इमरान हुसैन ने ख़त्म करवाया। मौके पर councillor Mohd Sadiq, Aaley mohd Iqbal, ओखला के सामाजिक कार्यकर्ता आशु ख़ान भी मौजूद थे।

Hindustan LIVE Farhan Yahiya ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಸೋಮವಾರ, ಅಕ್ಟೋಬರ್ 1, 2018

80 साल की बुजुर्ग हनीफ खातून बेटे के सम्मान के लिए ढाई साल से मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मिलने के लिए चक्कर काट रही थी। लेकिन सीएम साहब मिलने को राज़ी नही हुए।

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें