247022 kawardha colllll

छत्तीसगढ़ के कवर्धा जिले के कलेक्टर अवनीश कुमार शरण ने अपनी बच्ची का दाखिला सरकारी स्कूल में कराकर बड़ी मिसाल पेश की है। शिक्षा को प्राथमिकता देने वाले अवनीश बलरामपुर में पदस्थी के दौरान अपनी बेटी को आंगनबाड़ी भी भेज चुके है।

बलरामपुर के सरकारी स्कूल में पहले ही बेटी का दाखिला करा चुके अवनीश शरण का मानना है कि इससे दूसरों की भी सरकारी स्कूल के प्रति धारणा बदलेगी। शिक्षा के प्रति गंभीरता और उसमें सुधार के लिए इस पहल को उन्होने जारी रखते हुए अपने बेटी का दाखिला एक सरकारी स्कूल में ही करवाया।

उनका कहना है कि उच्च अधिकारियों द्वारा इस तरह की पहल से आम जन को भी प्रेरणा मिलती है। कलेक्टर की बेटी के दाखिले पर विद्यालय के प्राचार्य का कहना है कि इस स्कूल में कलेक्टर सर की बेटी की दाखिला से कोई परिवर्तन नही होगा क्योंकि स्कूल जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय से लगा हुआ है। जिसके कारण पहले से सतत मॉनिटरिंग होती रही है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

वहीं अन्य शिक्षक का मानना है कि वेदिका की दाखिला के बाद पढ़ाई और व्यवस्था में ज्यादा ध्यान देना पड़ेगा। हालांकि बच्ची के दाखिले के बाद स्कूल का माहौल उत्साहित हो गया है। लोग अवनीश शरण के इस कदम की खूब तारीफ कर रहे हैं।

बता दें कि यह वही स्कूल है जहां से छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने भी अपनी पढ़ाई की शुरुआत की थी। साथ ही यह प्रदेश का पहला सरकारी स्कूल है जहां इस सत्र से में इंग्लिश मीडियम की पढ़ाई होगी।

Loading...