nagma

nagma

मेरठ: स्थानीय चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय की छात्रा नगमा मंसूरी ने मेरठ यूनिवर्सिटी में टॉप किया है. नगमा मंसूरी को उत्तर प्रदेश के राज्यपाल और चांसलर राम नाईक ने सोमवार को सम्मानित किया.

सब्जी विक्रेता की बेटी नगमा ने विश्वविद्यालय में भौतिकी विषय में अधिकतम अंक हासिल किये है. एमएससी की छात्र नगमा अब पीएचडी करना चाहती है. उन्होंने बताया कि उन्हें शिक्षक का पेशा पसंद है और वह प्रोफेसर बनना चाहती है. ध्यान रहे उनसे पहले उनकी बड़ी बहन तबस्सुम मंसूरी 2014 में यूनिवर्सटी टॉप कर चुकी हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

हालांकि उनके परिवार में कोई ज्यादा शिक्षित नहीं है. उनके पिता सिर्फ़ आठवीं तक स्कूल गए और माँ ने कभी स्कूल नही देखा. हालांकि दोनों को शिक्षा का महत्व पता है. जिसके चलते ये चमत्कार हुआ. नग़मा के पिता मोहम्मद इस्लाम शामली के सब्ज़ी मंडी में एक आड़त चलाते हैं. हालांकि उनका एक बेटा कंप्यूटर इंजीनियर है.

बेटी की कामयाबी पर नग़मा के पिता इस्लाम साहब से ये सवाल किया कि बच्चियों को पढ़ाने की प्रेरणा आपको कहां से मिली तो वो बताते हैं, मेरे पिता हाजी मंगते का आड़त का कारोबार था. मुनीम अक्सर हिसाब में गड़बड़ करते थे. फिर उन्होंने मुझे पढ़ाया. लेकिन मैं सिर्फ़ इतना ही पढ़ पाया कि हिसाब किताब रख सकूं, मतलब आठवीं. लेकिन इतनी सी पढ़ाई से मेरी समझ में शिक्षा का मतलब समझ में आ गया. बस मैंने बच्चों को पढ़ाने में पूरी ताक़त झोंक दी. 

वहीँ मां फ़रज़ाना बुढ़ाना की हैं. वो बताती हैं कि, किसी ने कभी सामने आकर तो नहीं कहा कि लड़कियों को मत पढ़ाना, मगर हां, लोग आपस में तरह-तरह की बात ज़रूर करते थे. लेकिन अब मुझे खुशी इस बात की है कि सभी रिश्तेदार और पड़ोसी अपनी लड़कियों को नग़मा जैसी बनने को कहते हैं.

Loading...