मुजफ्फरनगर। दंगा आरोपी एक व्यक्ति ने लांक गांव हत्या मामले में सोमवार को अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया. आरोपी की पहचान गुलबीर के रूप में हुई है, जिसने कार्यवाहक मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट अरूण कुमार के समक्ष आत्मसमर्पण किया जिन्होंने उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया.

वरिष्ठ अभियोजक दिवाकर शर्मा के अनुसार 2013 में दंगे के दौरान जिले के लंक गांव में परिवार के तीन व्यक्तियों को जिंदा जला दिया गया था. गौरतलब है कि ग्राम लांक में तिहरे हत्याकांड में एसआईटी ने गुलबीर को भी वांछित किया था.

इस मामले में कई लोगों को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है.  उधर, शामली जिले के कांधला थाना क्षेत्र के गांव कनियान में हुए मांगेराम हत्याकांड के एक आरोपी परवाल ने सोमवार को कोर्ट में सरेंडर किया, जिसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया. गत 27 जनवरी 2017 को कनियान ग्राम में मांगेराम की हत्या हुई थी, इसमें परवाल फरार चल रहा था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

गौरतलब रहें कि साल 2013 में हुए इस दंगे में करीब 60 लोगों की मौत हो गई थी. साथ ही हजारों लोगों को अपना घर छोड़ कर भागना पड़ा था. इस दंगे में ज्यादातर पीड़ित अल्प्संखयक समुदाय के थे.

Loading...