muz

2013 मुजफ्फरनगर दंगों के दौरान आठ मुसलमानों के क’त्ल के आरोपी की कथित ह’त्या का मामला सामने आया है।शनिवार दोपहर उसके कुतबा गांव स्थित घर से ला’श मिली। मामले में रामदास के भाई ने छह अज्ञात लोगों के खिलाफ ह’त्या की रिपोर्ट दर्ज कराई है।

रामदास के भाई का आरोप है कि कुछ बंदूकधारी उसके घर में घुस आए और रामदास को गोली मार दी। रामदास के श’व का रात में ही पोस्टमार्टम कराया गया, जिसका रविवार अलसुबह ही कड़ी सुरक्षा के बीच अंतिम संस्कार कर दिया गया।

वादी के अनुसार दो बाइकों पर आए छह लोगों ने घर में घुसकर बरामदे में सोए रामदास की कनपटी पर गोली मारकर उसकी ह’त्या कर दी और फरार हो गए। सीओ बुढ़ाना हरिराम यादव ने बताया कि रामदास के भाई की तहरीर पर छह अज्ञात के खिलाफ ह’त्या की रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। कई बिंदुओं पर मामले की जांच की जा रही है और बहुत जल्द वारदात का खुलासा कर दिया जाएगा।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

muja

हालांकि, मुजफ्फरनगर के सीनियर सुपरीटेंडेंट ऑफ पुलिस सुधीर कुमार ने सिंह का मानना है कि रामदास की मौ’त के पीछे उस पर लगे ‘दंगों के केस का कुछ संबंध नहीं है।’ पुलिस के मुताबिक, मौके से टूटी हुई चूड़ियां बरामद हुई हैं। पुलिस को इस बात की आशंका है कि यह आत्मह’त्या का भी मामला हो सकता है।

सर्किल ऑफिसर हरिराम यादव ने कहा कि उन्हें शनिवार दोपहर ढाई बजे रामदास की मौ’त की जानकारी मिली। इससे 90 मिनट पहले ही उसकी मौत हुई थी। वह अपनी किराने की दुकान से वापस लौटा था। कुतबा के प्रधान अशोक का कहना है कि गांव में हिंदुओं और मुस्लिमों की मिश्रित आबादी है और दंगों के बाद से उन्होंने यहां कोई समस्या नहीं देखी।

Loading...