अलीगढ़: शनिवार को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के वाईस-चांसलर के विवादस्पद ब्यान से एएमयू में हड़कम्प मच गया है! एएमयू के कुलपति लफ्टिनेंट जनरल ज़मीर उद्दीन शाह यूनिवर्सिटी के पॉलिटेक्निक सभागार में एक कार्यक्रम में सम्बोधन कर रहे थे!

कुलपति ने अपने बयान में मुसलमानो को समझाते हुए कहा कि “यहूदियों से सबक सीखें” ताकि हम तरक़्क़ी कर सकें! कुलपति ने अपने ख़िताब में कहा कि मुसलमान बच्चे गणित में बहुत पीछे होते हैं!

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

सिर्फ मामला यहाँ पर ही रुकता को कुछ न था कुलपति ने अपने ख़िताब में एक फ़तवा भी दे डाला! कुलपति ने कहा कि “जुमा की नमाज़ के ख़ुत्बे से पहले ईसाईयों की तरह साइंस की बातैं होनी चाहिए, कुछ काम की बातैं होनी चाहिए”!

एएमयू के जनसम्पर्क अधिकारी ने इस बयान पर सफ़ाई देते हुए कहा कि कुलपति कहना चाहते थे कि दुनियावी तालीम में हमें यहूदियों की बराबरी के लिए उनका मॉडल अपनाना चाहिए!

हालाँकि इस मामले को लेकर एएमयू के थियोलॉजी के प्रोफेसर मुफ़्ति ज़ाहिद खान ने कहा कि ख़ुत्बे से पहले इस्लाम की रौशनी में मिली मसाइल पर बात की जानी चाहिए!

ऑडियो सुनने के लिए लिंक पर क्लिक करें: muslimissues 

Loading...