उत्तर प्रदेश में नए धर्मांतरण कानून लागू होने के बाद अब नियम बन गया है कि धर्म परिवर्तन के लिए दो महीने पहले DM से इजाज़त लेना ज़रूरी है। लेकिन मुस्लिम युवक के हिन्दू बनने पर सारे कायदे-कानून हुए हवा हो गए। इतना ही नहीं पुलिस ने युवक को सुरक्षा भी दे दी।

अलीगढ़ जिले के देहली गेट थाना इलाके के जंगलगढ़ी बाईपास स्थित झलकारीनगर निवासी 26 वर्षीय कासिम खान पुत्र अनवार इस्लाम धर्म त्यागकर कर्मवीर बन गया। उसने अपने बेटी एवं बेटा का नामकरण भी हिंदू धर्म के अनुसार कर दिया। बता दें कि कासिम ने आठ बर्ष पूर्व हिन्दू लड़की अनीता से शादी की थी और उसी समय से वो अपने परिवार से अलग रह रहा था।

कर्मवीर बनने पर कासिम ने कहा कि “ऐसा फील हुआ कि हमारे पूर्वज जो थे, वे आबर-बाबर की औलाद नहीं थे… हमारे पूर्वज हिन्दू समाज के थे… वही मुझे अच्छा लगा और मैं अपने पूर्वजों में आया हूं… मैंने घर वापसी की है, पूरे परिवार के साथ की है, बिना किसी दबाव के की है…”

गौरतलब रहे कि धर्म परिवर्तन को लेकर नया कानून बन चुका है, जिसके तहत धर्म परिवर्तन से दो महीने पहले अर्ज़ी देकर DM से इजाज़त लेनी होती है। कासिम कहते हैं कि DM के यहां उनसे कहा गया कि वह वकील से बात करें। उधर, उनका धर्म परिवर्तन कराने वाले नीरज भारद्वाज कहते हैं कि यह धर्म परिवर्तन नहीं, घर वापसी है।

नीरज भारद्वाज ने कहा, “उसने कोई धर्म परिवर्तन नहीं किया, उसने केवल शुद्ध‍ीकरण करवाया है…” जब उनसे पूछा गया कि शुद्धीकरण किस तरीके से किया गया, तो उन्होंने कहा, “जो भी विध‍ि विधान रहता है हिन्दू समाज का, आर्य समाज के हिसाब से, उसी तरीके से, लीगल तरीके से चीज़ों को किया है…”