1482217509193

तेलंगाना में 7 दिसंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर प्रचार जोरों पर है। इस चुनाव में सभी पार्टियां मुस्लिम मतदाताओं को लुभाने में कोई कमी नहीं छोड़ रही है। दरअसल, इस चुनाव में मुस्लिम मतदाता किंगमेकर है। जो किसी का खेल बना भी सकते है तो बिगाड़ भी सकते है।

जानकारी के अनुसार, 119 विधानसभा क्षेत्रों में 40 फीसदी उम्मीदवारों का सीधा फैसला 12.7 फीसदी मुस्लिम मतदाता ही करेंगे। इसके अलावा तेलंगाना के लगभग सभी जिलों में मुस्लिम मतदाता काफी संख्या में हैं। जिनमे हैदराबाद, रंगारेड्डी, महबूबनगर, नलगोंडा, मेडक, निजामाबाद और करीमनगर प्रमुख हैं।

तेलंगाना सामाजिक विकास रिपोर्ट 2017 के मुताबिक, 17.3 लाख मुस्लिम अकेले हैदराबाद में रहते हैं, जिससे शहर की आबादी का चौथाई हिस्सा और राज्य की मुस्लिम आबादी का 43.5 फीसदी हिस्सा बनता है। शहर में 24 विधानसभा सीटें हैं, जिनमें से 10 में परिणाम मुस्लिम मतदाताओं द्वारा प्रभावित किया जा सकता है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

asaduddin owaisi 750x460

हैदराबाद के अधिकांश मुसलमान पुराने शहर में रह रहे हैं। जिनके दम पर आल इंडिया माजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एमआईएम) आज तक अपना दबदबा बनाने मे कायम रही है। पुराने शहर में एमआईएम सभी सात विधानसभा सीटें जीतती रही है।

इसके अलावा हैदराबाद के बाहर निर्वाचन क्षेत्रों में एमआईएम टीआरएस को अपना समर्थन देती है। इनमें असीफाबाद, महबूबनगर और मेडक सीट शामिल हैं।

Loading...