मुस्लिम छात्रों का आरोप – शिक्षा में हो रहा भेदभाव, नहीं मिल रही लाइब्रेरी की सुविधा

7:45 pm Published by:-Hindi News

अहमदाबाद के दाणीलीमड़ा क्षेत्र में मुस्लिम छात्रों ने प्रशासन पर शिक्षा में धर्म के आधार पर भेदभाव का आरोप लगाया है। छात्रों का कहना है कि इलाके में कोई पुस्तकालय नही है। जिसके लिए कई बार मांग की जा चुकी है। लेकिन प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है।

छात्रों का कहना है कि पुस्तकालय न होने के चलते पठन-पाठन में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है इसीलिए बीते चार साल से एक पुस्तकालय बनवाने की अर्जी देते आ रहे हैं लेकिन उनका आरोप है कि प्रशासन इस संबंध में कार्रवाई करने की बजाय उनके ही साथ भेदभाव कर रहा है। दाणीलीमड़ा क्षेत्र के चार पार्षदों ने अहमदाबाद नगर निगम को ज्ञापन लिखकर एक पब्लिक लाइब्रेरी की मांग चार साल पहले की थी।

दाणीलीमड़ा के पार्षद शहजाद पठान ने इस मामले के बारे में बात करते हुए बताया कि “मौजूदा वक़्त में यहाँ कोई लाइब्रेरी न होने के कारण छात्रों को आश्रम रोड स्थित एमजे लाइब्रेरी जाना पड़ता है जो बहुत दूर है और इसमें उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है’,  उन्होंने बताया “दो साल पहले यहाँ आंबेडकर हॉल के ऊपर एक लाइब्रेरी ज़रूर बनी, लेकिन कुछ कारणों से उसका लोकार्पण अभी तक नहीं हुआ है”।

india muslim 690 020918052654

दाणीलीमड़ा के एक स्थानीय छात्र ज़हीर सैय्यद ने कहा “घर में ज्यादा जगह ना होने के चलते हमारे पास प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने के लिए कोई जगह नहीं जहाँ हम पढ़ सकें, आखिर दो साल पहले बन चुकी एक लाइब्रेरी का लोकार्पण क्यों नहीं हुआ? आम लोगों के लिए इसे क्यों नहीं खोला गया? ये सरासर भेदभाव है !”

ज़हीर ने आगे बताया कि इस लैबेरी के न खुलने के चलते हमें 7 से 8 किलोमीटर दूर एमजे लाइब्रेरी जाना पड़ता है जहाँ पढने के लिए जाने वाली लड़कियां देर तक रुक नहीं सकती। दाणीलीमड़ा में भेदभाव का आरोप लगाते हुए नगर निगम को अपने ज्ञापन में मुसलमान छात्रों के एक प्रतिनिधिमंडल ने गुरुवार को इस संबंध में लाइब्रेरी की मांग का ज्ञापन दिया। इस संबंध में छात्रों को रैली करने से भी पुलिस ने यह कहकर रोक दिया कि उन्होंने इसके लिए प्रशासन से कोई परमिशन नहीं ली थी।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें