wedding

केरल के कोझिकोड में एक मुस्लिम परिवार ने अपनी गोद ली हुई ह‍िंदू बेटी की धार्मिक रीति—रिवाजों के साथ मंदिर में पारंपरिक मलयाली विधि—विधान से शादी कराई।

जानकारी के अनुसार, मजीद और रमल नामक दंपति ने 10 वर्ष की हिन्दू बच्ची मंजु को गोद लिया था। जिसके बाद से ही उन्होने उसकी परवरिश की थी। इतना ही नहीं कभी भी उसे ये एहसास नहीं होने दिया कि वह उनके धर्म से अलग किसी दूसरे धर्म की है।

उन्होंने मंजु की परवरिश अपने बाकी बच्चों जुनैद, सुलिका और सुमिया की तरह ही की। उन्होंने उसे पढ़ाया-लिखाया और उसे अपने धर्म का पालन करने की भी इजाजत दी, जिसके साथ वो पैदा हुई थी। उन्होंने कभी उसके ऊपर अपनी मनमर्जी नहीं थोपीं।

Courtesy: Lokbharat

मंजू की शादी का जब वक्त आया तो मजीद और रमाल ने उसके लिए योग्य हिन्दू वर तलाशा। जिसके बाद रविवार (19 अगस्त) को, मंजू की शादी सुब्रम्ण्यन के साथ कोझिकोड के स्थानीय मंदिर में संपन्न करवा दी गई। हालांकि मजीद के मन में मलाल है कि वह अपनी बेटी के​ ​लिए विवाह समारोह का भव्य आयोजन नहीं कर सका।

दरअसल केरल में आई बाढ़ के कारण शादी का भव्य आयोजन कर पाना संभव नहीं था। इसके अलावा चारों तरफ बाढ़ पीड़ितों को हो रही तकलीफों के कारण भी ये आयोजन नहीं किया गया।

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें