natt

बिहार के पटना में  एक महिला कांस्टेबल ने छुट्टी न मिलने के कारण इलाज के अभाव में हुई मौ’त के बाद पुलिस लाइन में पुलिसकर्मियों ने डीएसपी मसलाउद्दीन, एसपी सिटी डी अमर केस और एसपी ग्रामीण आनंद कुमार को डंडों से पीटा। इस मामले में अब शराब माफिया की साजिश सामने आ रही है।

नवजीवन की रिपोर्ट के अनुसार, सिपाहियों ने डीएसपी को लाठी-डंडों से बेरहमी से पीटा जिसमें उनका सिर फट गया है। इतना ही नहीं जान बचाकर भागे डीएसपी का पीछा करते हुए सिपाहियों का झुंड उनके क्वार्टर में जबरन दरवाजा तोड़कर घुस गया और उनके परिवार पर भी हमला कर दिया, जिसमें उनकी बेटी को काफी चोटें आई हैं। हमले में डीएसपी मसलेहुद्दीन अहमद का सिर फट गया है और शरीर में कई जगह गंभीर चोटें आई हैं। फिलहाल उनका इलाज चल रहा है।

परिवार ने आरोप लगाया है कि कुछ लोगों ने साजिश के तहत उन पर हमला करवाया है। क्योंकि मसलेहुद्दीन अहमद पुलिस लाइन के डीएसपी हैं। उनका ट्रैफिक से कोई लेना-देना नहीं है। ट्रैफिक के सारे अधिकारी अलग होते हैं। परिवार का आरोप है कि हमले के दौरान सिपाहियों की उन्मादी भीड़ धर्मसूचक गालियां दे रही थी। इसी तरह का आरोप हमले में बाल-बाल बचे डीएसपी अहमद ने भी लगाया है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

घटना के वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि उन्मादी सिपाही किस तरह के अपमानजनक शब्दों का उपयोग करते हुए उन्हें पीट रहे हैं। ध्यान रहे बीते दिनों डीएसपी अहमद ने पुलिस लाइन में शराब माफिया का उद्भेदन कर उन पर कार्रवाई की थी। पुलिस लाइन के अंदर शराब बेचे जाने को लेकर डीएसपी अहमद ने सख्त कार्रवाई करते हुए कई लोगों को जेल भेजा था।

डीएसपी मसलेहुद्दीन अहमद एक ईमानदार और सख्त अधिकारी माने जाते रहे हैं। पूर्व में उन्हें राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम द्वारा राष्ट्रपति पदक से भी सम्मानित किया जा चुका है। इससे पहले वह एसटीएफ में भी तैनात रह चुके हैं।

Loading...