मध्य प्रदेश में अब तक 342 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि हो चुकी है, इसमें से 24 की मौ’त हो गई है। जिसमे भोपाल और इंदौर में कम्युनिटी ट्रांसमिशन की आशंका बढ़ गई है। वहीं इंदौर में 16 लोगों की जान जा चुकी है।  इनमें से 14 लोग मुस्लिम समुदाय के थे।

इसी बीच चौकाने वाला तथ्य ये है कि पिछले 8 दिनों में मुस्लिम समुदाय के 120 की लोगों की मौत हो चुकी हैं। यानि इंदौर के कब्रिस्तानों में हर दिन करीब 20 जनाजे पहुंच रहे हैं। मामले में कलेक्‍टर मनीष सिंह का कहना है कि मामला संज्ञान में लिया गया है, जल्द ही इसकी जांच करवाई जाएगी।

उन्होंने कहा कि हालांकि अभी तक जो पता चला है कि उसके अनुसार सभी मृतकों में कोरोना के लक्षण नहीं थे। वहीं उन्होंने यह भी कहा कि यदि ये आंकड़े सही नहीं पाए गए, तो इन्हें जारी करने वालों के खिलाफ प्रशासन कार्रवाई करेगा। मनीष सिंह ने कहा कि आंकड़ों की जांच के लिए इस साल के मृतकों की संख्या का तुलनात्मक अध्ययन किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि पिछले 5 साल के आंकड़ों को देखा जाएगा और यह पता लगाया जाएगा कि इस माह में डेथ-रेट क्‍या रहता है। इसके बाद ही सही तस्वीर सामने आ सकती है। मृतकों की इतनी बड़ी संख्या सामने आने के बाद नगर निगम ने महू नाका, चंदननगर, नूरानी नगर, लुनियापुरा और सिरपुर कब्रिस्तान में रखे गए रजिस्टर मंगाए हैं।

निगम के कब्रिस्तान प्रभारी डॉ. नटवर सारडा का कहना है कि उनके पास 21 दिन में आंकड़े आते हैं। उन्होंने कहा कि किसी खबर से मैं इत्तेफाक नहीं रखता हूं। इसकी जांच की जाएगी और उसके बाद सही तस्वीर पेश की जाएगी।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन