fati

fati

चंडीगढ़: फतेहगढ़ साहिब में शहीदी जोर मेले में आने वाले सिख श्रद्धालुओं के लिए लंगर के आयोजन हेतु मस्जिद के दरवाजे खोलकर बड़ी मिसाल पेश की है.

मुस्लिम समुदाय ने लंगर के लिए मुगलकालीन लाल मस्जिद परिसर सिख समुदाय को सौप दिया. सिख समुदाय अब श्रद्धालुओं को रसोई बनाकर यहीं पर खाना खिलायेगा.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

ध्यान रहे ये मेला गुरु गोबिंद सिंह के की शहादत को याद में आयोजित होता है. वहीँ दूसरी और ये मस्जिद भी मुगल काल की है. जिसे शेख अहमद फारुकी सिरहिंदी ने बनवाया था. दो साल पहले इस मस्जिद का पुनर्निर्माण कराया गया.

स्थानीय युवक चरणजीत सिंह चन्नी ने बताया कि मुस्लिम समुदाय ने लंगर तैयार करने के लिए अपनी जमीन का उपयोग करने की अनुमति दी है. हम पिछले तीन दिनों से भोजन तैयार कर रहे हैं और यहां आने वाले लोगों को सेवाएं दे रहे हैं.

उन्होंने आगे कहा कि मस्जिद के तहखाने का इस्तेमाल भी हमारे खाद्य पदार्थों के भंडारण के लिए किया जा रहा है. दो गांवों के गुरुद्वारों ने मिलकर लंगर का आयोजन किया और ग्रामीणों ने समुदाय के लोग रसोई घर की सेवाओं में हाथ बंटा रहे हैं.

Loading...