gurug

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली से सटे गुरुग्राम में एक बार फिर से हिन्दू संगठनों के दबाव में सील की गई मस्जिद के मामले में गुरुवार को मुस्लिम समुदाय ने धरना-प्रदर्शन किया। जिसमें भारी संख्या में महिलाएं भी शामिल हुई।

आज जुमे की नमाज के चलते 34 डयूटी मैजिस्ट्रेट को भी नियुक्त किया गया। साथ ही पुलिस फ़ोर्स भी तैनात है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, तीन मंजिला बिल्डिंग में बनी मस्जिद के लाउडस्पीकर को लेकर विवाद हुआ था। जिसके बाद लाउडस्पीकर भी उतरा दिये थे।

बुधवार को नगर निगम की टीम ने अवैध निर्माण होने की बात कर मस्जिद को सील कर दिया। हालांकि स्थानीय लोगों का कहना है कि हम कई सालों से इस मस्जिद में नमाज पढ़ रहे हैं और मस्जिद को सील किया गया। सील खोलने को लेकर बुधवार देर शाम करीब 250 लोग अनशन पर बैठ गए। गुरुवार को भी तमाम लोग धरने पर बैठे रहे और लोगों ने खुले प्लॉट में नमाज पढ़ी।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

gu

स्थानीय निवासी हाजी अलीन खान ने बताया कि कॉलोनी में कई जगह निर्माण कार्य चल रहा है, उसको सील नहीं किया गया। चार साल पहले जगह खरीदी गई थी और खाली प्लॉट पर नमाज पढ़ना शुरू किया गया था। इसके बाद टीन शेड डाला गया और चंदा कर बिल्डिंग बनवाई गई। दो ढाई साल से किसी प्रकार का निर्माण नहीं किया गया और बिल्डिंग के अंदर ही नमाज पढ़ी जा रही थी।

बता दें कि इससे पहले खुले में नमाज पढ़ने को लेकर भी जमकर बवाल हुआ था। कथित तौर पर हिन्दू संगठनों ने नामजियों के साथ बदसलूकी की थी। गुरुग्राम के सेक्टर-53 में भी कुछ लोगों ने नामजियों से कथित तौर पर मारपीट भी की थी।