news18
News18
news18
News18

राजस्थान के अलवर में गौरक्षा के नाम पर मारे गए मुस्लिम युवक उमर के हत्याकांड के खिलाफ मुस्लिम समुदाय ने वसुंधरा सरकार के सामने अपनी मांगे रखते हुए पोस्टमार्टम नहीं करवाने का फैसला लिया है.

मुस्लिम संगठनों ने जयपुर में बैठक के बाद सरकार के सामने अपनी तीन मुख्य मांगे रखी है. जिसमें थानाधिकारी का निलंबन, परिवार को 50 लाख का मुआवजा और सभी आरोपियों की तुरंत गिरफ्तारी की मांग शामिल है.

कमेटी के सदस्य अब्दुल लतीफ आर्को ने कहा कि मांगें नहीं माने जाने तक शव का पोस्टमार्टम नहीं करवाएंगे. साथ ही उमर के परिवार की और से शव का पोस्टमार्टम कराने और शव लेने से इंकार कर दिया गया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

परिवार की मांग है कि पहले सभी आरोपी गिरफ्तार हों और इंसाफ मिले तभी शव लेंगे. परिवार का आरोप है कि हत्या करने वाले गौररक्षक हैं. सरकार इनकी गुंडागर्दी खत्म करे.

उमर के भाई खुर्शीद ने कहा कि उसका भाई गौ तस्कर नहीं था. वो गायें पालता था. उसके आठ बच्चे हैं. उसकी हत्या से परिवार पर पहाड़ टूट पड़ा है. खुर्शिद ने कहा हमे इंसाफ मिलेगा तब ही पोस्टमार्टम करवाएंगे.

Loading...