Monday, October 18, 2021

 

 

 

वोट के खातिर बीजेपी ट्रिपल तलाक से दूर, मुस्लिम कैंडिडेट्स ने नहीं बनाया चुनावी मुद्दा

- Advertisement -
- Advertisement -

पश्चिम बंगाल में भाजपा के दो मुस्लिम चेहरों ने कहा कि उन्होंने अपने चुनाव प्रचार अभियान में तीन तलाक को चुनावी मुद्दा नहीं बनाने का फैसला किया और घरेलू हिंसा एवं समुदाय में महिलाओं को शिक्षित करने की आवश्यकता जैसे मुद्दों को उठाया।

भाजपा ने लोकसभा चुनाव के लिए 42 उम्मीदवारों की सूची जारी की है जिनमें दो मुस्लिम उम्मीदवार हैं। पार्टी ने मुर्शिदाबाद लोक सभा सीट से हुमायूं कबीर और जंगीपुर से माफूजा खातून को उम्मीदवार बनाया है। भाजपा ने तीन तलाक को चुनावी मुद्दा बनाया है, लेकिन कबीर और माफूजा को लगता है कि इसे चुनावी मुद्दा बनाने से अधिक लाभ नहीं होगा।

दोनों की किस्मत का फैसला मंगलवार को तीसरे चरण के मतदान में हो गया। जंगीपुर से भाजपा प्रत्याशी महफूजा खातून ने कहा कि देश के अन्य हिस्सों के मुकाबले बंगाल में ट्रिपल तलाक पीडि़तों की संख्या बहुत कम है। बंगाल में इसका कोई खास असर नहीं है।  उन्होंने कहा, ‘‘मैंने मूलभूत सुविधाओं, बीड़ी मजदूरों की दशा, युवाओं के लिए रोजगार और गंगा नदी के किनारों के कटाव जैसे स्थानीय मुद्दों पर बल दिया।’’

bjp

कबीर ने भी कहा कि लोगों तक पहुंचने के लिए कई अन्य अहम मुद्दों को उठाए जाने की आवश्यकता हे। उन्होंने कहा, ‘‘तीन तलाक को लेकर अल्पसंख्यक बंटे हुए हैं। उनकी दुविधा को बढ़ाने की आवश्यकता नहीं है। इसके बजाए, हमने मुस्लिम घरों में बच्चियों के लिए उचित शिक्षा समेत लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के विकास के लिए प्रचार किया।’’ दोनों उम्मीदवारों ने कहा कि विपक्ष ने भाजपा को ‘‘हिंदुओं की पार्टी’’ के रूप में पेश किया और वे इस सोच को बदलने की दिशा में काम करेंगे।

पूर्व तृणमूल कांग्रेस मंत्री कबीर ने कहा कि राजनीतिक दलों ने अपने राजनीतिक हित साधने के लिए भाजपा की ‘‘मुस्लिम विरोधी’’ छवि बनाई है और पार्टी में किसी प्रकार का भेदभाव नहीं है। जंगीपुर और मुर्शिदाबाद में मंगलवार को लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण के तहत मतदान हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles