बेंगलुरु में एक ऑटो ड्राइवर को उसकी बहादुरी के लिए कर्नाटक पुलिस ने सम्मानित किया है. दरअसल ऑटो ड्राइवर असगर पाशा ने शुक्रवार आधी रात को एक लड़की की अपनी जान पर खेलकर आबरू लुटने से बचाई थी.

असगर पाशा के अनुसार, शुक्रवार रात करीब 1 बजे यशवंतपुर स्टेशन के पास वह अपने ऑटो में बैठा था. इसी दौरान कुछ लोग नशे की हालत में एक युवती को जबरदस्ती घसीटकर पास के गौदाम में ले जा रहे थे. पाशा ने समझदारी से काम लेते हुए अपने दोस्तों को फोन कर मौके पर बुलाया. साथ ही पुरे मामले की जानकारी पुलिस को भी दी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसी के साथ पाशा ने इंतजार करने के बजाय उन लोगों का पीछा शुरू कर दिया. कुछ देर बाद उसके दोस्त भी वहां पहुँच गए और उन्होंने लड़की को तलाश कर लिया. पुलिस ने इस मामले में तीन लोगों के गिरफ्तार किया है. पुलिस का कहना है कि आरोपियो की मंशा युवती से गैंगरेप करने की थी.

असगर पाशा ने बताया, ‘मैं तीनों आरोपियों को जानता हूं. देर रात मैं अपने ऑटो पर बैठा था, तभी मैंने देखा कि दो लोग पीड़िता के रिश्तेदार को पीट रहे हैं और मुख्य आरोपी फयाज लड़की को जबरदस्ती घसीटकर ले जा रहा है. तभी मैंने लड़की को बचाने का फैसला किया.’

शहर के पुलिस कमिश्नर टी. सुनील कुमार ने असगर की बहादुरी की तारीफ की है और उन्हें अपने ऑफिस में बुलाकर सम्मानित भी किया है.

Loading...