Monday, August 2, 2021

 

 

 

जामिया को लेकर उद्धव ठाकरे के बयान पर की थी टिप्पणी, शिवसैनिकों ने पहले पीटा, फिर गंजा भी किया

- Advertisement -
- Advertisement -

नागरिकता कानून को लेकर जामिया मिल्लिया इस्लामिया में दिल्ली पुलिस की कार्रवाई की तुलना शिवसेना प्रमुख और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने 1919 में जालियावाला बाग से की थी। इस तुलना पर मुंबई के वडाला में रहने वाले राहुल उर्फ़ हीरामन तिवारी को टिप्पणी करना महंगा पड़ गया।

दरअसल, शिवसैनिकों ने उसके साथ न केवल मारपीट की बल्कि जबरन उसका मुंडन  भी करा दिया। पीड़ित व्यक्ति ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि जिनलोगों ने उनके साथ मारपीट की है, वो उनको अच्छी तरह से जानते हैं। उनका कहना है कि सभी शिव सैनिकों ने मिलकर उन्हें पीटा। उन्होंने बताया कि दो शाखा प्रमुख ने मिलकर उनकी पिटाई की।

राहुल तिवारी का आरोप है कि वंहा पहले से पुलिस मौजूद थी जो इस घटना को देख रही थी | इस घटना को अंजाम देने के बाद पुलिस उन्हें लेकर पहले संगम नगर पुलिस चौकी पहुंची उसके बाद वडाला टीटी पुलिस स्टेशन | पुलिस ने राहुल का बयान लेने के बजाय मामले का समझौता कराते हुए घर भेज दिया |

उसने कहा, “मुझे पता चला कि शिव सैनिकों ने मुझे पीटने के लिए अलग से एक महिला टीम को भी तैयार कर रखा था। अगर मेरी तरफ से कोई महिला पलटवार करती तो वो उनसे निपटतीं। जहाँ तक मुझे जानकारी मिली है शिवसैनिकों ने ये सब कुछ प्लानिंग के साथ किया है। उन्होंने शिवसेना शाखा के पास पुलिस खड़ी कर रखी थी, जो कि घटना के 2-3 मिनट बाद ही वहाँ पहुँची।”

तिवारी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि उनलोगों ने उनके अकेले होने का फायदा उठाया है। उनको सजा मिलनी चाहिए। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि उनलोगों ने उन्हें इतनी बुरी तरह से पीटा कि उनके कान का पर्दा फट गया है। उन्होंने शिवसेना सैनिकों के खिलाफ कार्रवाई की माँग की है, ताकि फिर किसी को इस तरह से पीटने की हिम्मत न हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles