बीजेपी एमएलए कृष्णानंद राय के मर्डर केस में मुख्‍तार अंसारी समेत सभी आरोपी बरी

6:32 pm Published by:-Hindi News

भाजपा विधायक कृष्‍णानंद राय के मर्डर केस में दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने मुख्‍तार अंसारी समेत सभी पांच आरोपियों को बरी कर दिया है। इस मामले की सुनवाई विशेष जज अरुण भरद्वाज कर रहे थे।

साल 2005 में हुए इस हत्‍याकांड में मुख्‍तार अंसारी और उनके भाई अफजाल अंसारी समेत संजीव माहेश्वरी, एजाजुल हक,  राकेश पांडेय, रामू मल्लाह और मुन्ना बजरंगी को आरोपी बनाया गया था। इसमें से मुन्ना बजरंगी की बीते दिनों जेल में हत्या कर दी गई थी।

कृष्‍णानंद राय उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिले में मोहम्मदाबाद विधानसभा क्षेत्र से निर्वाचित हुए थे। 29 नवंबर, 2005 को कृष्‍णानंद राय और उनके छह समर्थकों की दिनदहाड़े एके-47 से अंधाधुंध गोलीबारी करके हत्‍या कर दी गई थी। पोस्‍टमार्टम में राय के शरीर में 21 गोलियां पाई गई थीं।

2013 में विधायक कृष्णानंद राय की पत्नी अल्का राय ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी। इस मामले में हत्‍यारों को सजा दिलाने की मांग करते हुए वरिष्‍ठ भाजपा नेता राजनाथ सिंह ने चंदौली में धरना दिया था। बाद में इस मामले को सीबीआई को सौंपा गया था। राय की पत्‍नी अल्‍का राय की याचिका पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सीबीआई जांच के निर्देश दिए थे।

अब करीब 13 साल तक सुनवाई के बाद मुख्‍तार अंसारी को सबूतों की कमी का हवाला देते हुए बरी कर दिया गया है। मुख्तार अंसारी मऊ निर्वाचन क्षेत्र से विधान सभा के सदस्य के रूप में रिकॉर्ड पांच बार विधायक चुने गए हैं। अंसारी ने बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के एक उम्मीदवार के रूप में अपना पहला विधानसभा चुनाव जीता था।

Loading...