आठ साल पहले मेरठ में हुए चर्चित ठेकेदार मन्ना सिंह व इसके साथी राजेश राय के दोहेरे हत्याकांड मामले मेंबसपा विधायक मुख़्तार अंसारी को बड़ी राहत मिली है.

मऊ जिले की फास्ट ट्रैक कोर्ट ने  इस मामले में मुख्तार समेत आठ लोगों को बरी कर दिया. हालांकि  तीन लोगों को दोषी करार दिया है. इस मामले में मुख्तार समेत कुल 11 आरोपी थे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

ठेकेदार मन्ना सिंह और उसके साथी राजेश राय की 29 अगस्त 2009 को नगर कोतवाली क्षेत्र में बाइक सवार हमलावरों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. पुलिस ने मन्ना सिंह के भाई हरेंद्र सिंह की तहरीर पर विधायक मुख्तार अंसारी, हनुमान पांडे समेत 11 लोगों को आरोपी बनाया था.

फैसला आने के बाद मुख्तार की और से कहा गया कि कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हैं और आज एक फिर न्यायपालिका ने यह साबित कर दिया है कि न्यायपालिका हमेशा न्याय करती है. हम लोगों को इस केस से बरी होने पर काफी खुशी है.

कोर्ट ने मुख्तार अंसारी, अनुज कनौजिया, राकेश पांडेय उर्फ हनुमान, कल्लू सिंह, उमेश सिंह, संतोष सिंह, रजनी सिंह और शंकर सिंह को बरी किया है जबकि जामवंत कनौजिया उर्फ राजू, अमरेश कनौजिया और अरविंद यादव को दोषी मानते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई है.

Loading...