Friday, January 28, 2022

मुरादाबाद: तीन तलाक बिल पर बोली मुस्लिम महिलाएं – ‘मोदी सरकार का है जुल्म’

- Advertisement -

hma

तीन तलाक बिल मुस्लिम महिलाओं के साथ इंसाफ नहीं जुल्म है की आवाज बुलंद करते हुए उत्तरप्रदेश की मुरादाबाद की मुस्लिम महिलाओं ने इस बिल को वापस लेने की मांग की.

महिलाओं का कहना है कि मुस्लिम महिलाओं के हक और सम्मान को लेकर शरीयत में पर्याप्त कानून हैं. ऐसे में तीन तलाक पर बिल बनाकर सरकार कहीं न कहीं मुस्लिम महिलाओं से सम्मान से जीने का हक छीनना चाहती है. इस स्थिति में इस बिल का विरोध लाजिमी है.

मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की महिला विंग की अध्यक्ष डॉ.आसमा जाहरा ने कहा कि महिलाओं और बेटियों को जिंदा रहने का हक इस्लाम शुरू होने पर मिला, वरना बेटियों को जिंदा दफना दिया जाता था. पैगंबर मुहम्मद साहब ने इस्लाम फैलाकर लोगों को बुराइयां छोड़कर अच्छे रास्तों पर चलना सिखाया.

शरीयत कानून में किसी तरह के दखल की गुंजाइश नहीं

डॉ.आसमा ने कहा कि इस्लाम से ही लोगों ने जाना की मां के कदमों के नीचे जन्नत होती है. उन्होंने कहा कि मुस्लिम परिवार में एक सिस्टम होता है, अगर किसी महिला पर दिक्कत आ जाए तो उसका परिवार (मायका पक्ष) पूरी तरह से उसकी सपोर्ट करता है. भाई और पिता बचपन से लेकर आखिर तक उसके निगहबान होते हैं.

उन्होंने साफ कहा कि शरीयत हमारा कानून है, इसमें किसी भी तरह की तब्दीली नहीं होने देंगे, हम शरीयत के पाबंद रहेंगे.

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles