उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में  50 बजरंग दल के दलित कार्यकर्ताओं ने इस्लाम धर्म अपनाने की धमकी दी है. साथ ही घर में रखीं देवी देवताओं की मूर्तियों का भी रामगंगा नदी में बहा दिया.

दरअसल, मंगलवार को आरटीओ दफ्तर में भाजपा के महानगर उपाध्यक्ष राकेश शर्मा को ठेका दिलाने के लिए एक व्यक्ति ने फोन किया था. यह काम पहले से बजरंग दल के एक पदाधिकारी को दिया जा चुका था. फोन आने पर कार्यालय के अधिकारियों ने उनको भी अनुमति देने की बात कही. लेकिन बजरंग दल के पदाधिकारी अपने साथियों संग पहुंचे. इसके बाद बजरंग दल के नौ लोगों पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया था और चार को जेल भेजा गया था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बाल्मिकी धर्म समाज के अध्यक्ष लल्ला बाबू द्रविड़ का कहना है कि आरटीओ दफ्तर पर भाजपा के महानगर उपाध्यक्ष राकेश शर्मा और उनके साथियों ने फर्स्ट एड बाक्स का ठेका कब्जाने के लिए बजरंग दल के दलित कार्यकर्ताओं पर गोली चलाई थी. लेकिन पुलिस ने भाजपा नेताओं के दबाव में उल्टा वाल्मीकि युवकों पर ही केस दर्ज करके उन्हें जेल भेज दिया.

उन्होंने बताया कि सपा सरकार में भी हिंदुत्व का झंडा उठाए रहे बजरंग दल के वाल्मीकि कार्यकर्ताओं पर स्थानीय भाजपा नेताओं ने दो मुकदमे किए थए। जबकि पुलिस ने फायरिंग करने वाले भाजपाइयों के खिलाफ सत्ता के दबाव में कोई मामला दर्ज नहीं किया.

सिआसत इनपुट के साथ

Loading...