भाजपा के विवादित नेता संगीत सोम को फर्जी भडकाऊ विडियो बनाकर अपलोड करने के मामलें में क्लीन चिट मिल ग
ई हैं. मामलें की जांच कर रहे विशेष जांच दल (एसआईटी) ने अदालत में अंतिम रिपोर्ट दायर करते हुए कहा कि आरोपी के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला हैं.

जांच के दौरान एसआईटी ने केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के जरिये सोशल मीडिया साइट, फेसबुक के अमेरिका स्थित मुख्यालय से उक्त वीडियो अपलोड करने के संबंध में जानकारी मांगी थी जिससे साम्प्रदायिक भावनाएं भड़की थी. लेकिन फेसबुक मुख्यालय उन लोगों के नामों के बारे में जानकारी मुहैया कराने में असफल रहा जिन्होंने वीडियो अपलोड किया था या वीडियो को लाइक किया था. एसआईटी ने बताया कि फेसबुक मुख्यालय ने कहा कि वह एक वर्ष का ही रिकार्ड रखता है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस मामलें में पुलिस ने दो सितम्बर 2013 को भाजपा विधायक सोम सहित दो सौ से अधिक अन्य व्यक्तियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं और सूचना प्रौद्योगिकी कानून की धारा 66 के तहत मामला दर्ज किया था.

इस विडियो के बवाल से 2013 में मुजफ्फरनगर और आसपास के क्षेत्रों में दंगे हो गए थे. जिनमे 60 से अधिक व्यक्ति मारे गए थे और 40000 से अधिक विस्थापित हुए थे.

Loading...