न्यायमूर्ति मोहम्मद रफीक ने बुधवार को मेघालय उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ ली। राज्यपाल तथागत रॉय ने न्यायमूर्ति रफीक को राजभवन में पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलायी।

रफीक इससे पहले राजस्थान उच्च न्यायालय में वरिष्ठ न्यायाधीश थे। उन्होंने न्यायमूर्ति ए के मित्तल के स्थान पर पद ग्रहण किया है जिन्हें अब मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय का मुख्य न्यायाधीश बनाया गया है।

शपथ ग्रहण समारोह में मुख्यमंत्री कोनराड संगमा, कैबिनेट मंत्री और मेघालय उच्च न्यायालय के न्यायाधीश हमरसन सिंह थांगखियू तथा अन्य गणमान्य लोग उपस्थित रहे।
न्यायमूर्ति रफीक का जन्म राजस्थान के चुरु में हुआ था। उन्हाेंने 1984 में वकालत शुरू की थी और अपने कैरियर का सबसे लंबा वक्त राजस्थान में गुजारा।

उन्होंने कानून की लगभग सभी शाखाओं में राजस्थान हाईकोर्ट में विशेष रूप से प्रैक्टिस की। उन्होंने 1999 से 2006 तक एक वकील के रूप में कार्य किया। उन्हें भारतीय संविधान, सेवा, भूमि अधिग्रहण, कर और कंपनी कानून मामलों के विशेषज्ञ के रूप में जाना जाता है। 2008 में, उन्हें राजस्थान हाईकोर्ट में न्यायाधीश नियुक्त किया गया।

रफीक ने दो बार राजस्थान हाईकोर्ट के कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश के रूप में भी कार्य किया। शपथ ग्रहण के बाद न्यायमूर्ति रफीक ने संवाददाताओं को बताया कि वह पांच वर्ष से पुराने मामलों का प्राथमिकता के आधार पर निपटारा करेंगे। उन्होंने कहा, “मुझे बताया गया है कि राज्य की निचली अदालत में 2500 मामले लंबित हैं। मैं उच्च न्यायालय और निचली अदालत का कंप्यूटर कार्य बेहतर बनाने का प्रयास करूंगा।”

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन