मुजफ्फरनगर : गुरुवार को मुजफ्फरनगर की एक युवती ने ख़ुदकुशी कर अपनी जीवनलीला को समाप्त कर ली हैं. इस मामलें में मोदी सरकार के मंत्री संजीव बालियान नाम सामने आया है. परिवार का आरोप हैं कि बालियान के उत्पीड़न की वजह से युवती ने आत्महत्या की हैं.

मामला मुजफ्फरनगर के कोतवाली नई मंडी थाना क्षेत्र के अंकित विहार कॉलोनी का है. आत्महत्या करने वाली युवती ने के पिता देवप्रकाश बीजेपी नेता की कंपनी में काम करते हैं. वह तीन दिन पहले कंपनी के काम से लखनऊ गए थे. रास्ते में बदमाशों ने कंपनी के साढ़े चार लाख रुपये लूट लिए. जिसकी जानकारी लखनऊ पुलिस और कंपनी के मालिक को देवप्रकाश ने दे दी थी. लेकिन दो दिन बाद भी जब देवप्रकाश घर नहीं लौटे तो युवती का भाई अक्षय पिता को खोजने गया लेकिन वह भी नहीं लौटा. जिसकी शिकायत पीड़ित परिवार ने पुलिस से की.

संजो देवी का कहना है कि अक्षय ने बंधक बनाए जाने के बाद फोन पर कहा था कि यह लोग हमें मार डालेंगे, कुछ पैसों का इंतजाम कर मुझे बचा लो. हम साढ़े चार लाख रुपये कहां से देते. दबंगों से गुहार लगाई थी कि पैसों के बदले मजदूरी करा लो, लेकिन मेरे पति और बेटे को छोड़ दो. संजो देवी का आरोप है कि कंपनी के मालिक ने उनके बेटे और पति को बंधक बनाया है. वह इस पूरे घटनाक्रम में संजीव बालियान का हाथ होने का आरोप लगा रही हैं. उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि पुलिस बालियान के ही दबाव में आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रही है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बेटी को खो देने वाली संजी देवी ने कहा कि अगर उनके पति और बेटे को रिहा नहीं किया गया तो वह सीएम के सामने आत्मदाह कर लेंगी. वहीं इस पूरे मामले को संजीव बालियान ने हास्यास्पद बताया है. उन्होंने इसे राजनीतिक साजिश करार दिया है.

इस मामले में केन्द्रीय मंत्री का कहना है कि वह देवप्रकाश के परिवार को जानते तक नहीं. उन्होंने कहा, ‘जिस फर्म में देवप्रकाश काम करते थे, उसके मालिक बीजेपी से जुड़े हैं, इस नाते मैं सिर्फ उनको जानता हूं. वह इस बार बीजेपी से टिकट मांग रहे थे और वह गांव के प्रधान भी रह चुके हैं. फर्म से मेरा कोई लेना-देना नहीं हैं.’

Loading...