sarfar

sarfar

बिहार में होने वाले उपचुनाव से पहले राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को बड़ा झटका लगा है. दरअसल विधायक सरफराज अहमद ने जेडीयू की सदस्यता से अपना इस्तीफा दे दिया है.

सरफराज राजद के पूर्व सांसद तस्लीमुद्दीन जिनका हाल ही में निधन हुआ उनके बेटे हैं. उन्होंने जेडीयू को छोड़ने के साथ ही राजद का दामन थाम लिया. ऐसे में अब माना जा रहा है कि वह अपने पिता की सीट पर सांसद के लिए राजद की तरफ से चुनाव लड़ सकते हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

कुछ दिनों पहले वे तेजस्वी यादव के साथ नजर आ रहे थे. ऐसे में उनके राजद में शामिल होने के कयास लगाए जा रहे थे. यादव ने इस मसले पर कहा कि अभी ये शुरूआत है और जेडीयू में लोगों की भगदड़ जारी रहेगी. उन्होंने कहा कि बिहार के लोगों में जनादेश के अपमान के खिलाफ गुस्सा है और इसका प्रमाण न्याय यात्रा में देखने को मिल रहा है.

सरफराज ने राबड़ी देवी से मिलने के बाद नाटकीय ढंग से अचानक राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी की मौजूदगी में राजद की प्राथमिक सदस्यता ग्रहण की. उसके बाद उन्होंने कहा कि पूरी सीमांचल की जनता, हम लोगों पर प्रेसर बनायी हुई है.

उन्होंने कहा, सबसे ज्यादा प्रेसर उस वक्त हुआ जब इलाजरत तस्लीमुद्दीन साहब के देहांत के बाद पूरी सीमांचल की जनता और मेरी मां कहने लगी कि जिस पार्टी के तस्लीमुद्दीन साहब फाउंडर थे, उसी में आप चले जाइए. उसी की वजह से मैं अपने पुराने घर में वापस आया हूं, मैं जन भावना का आदर करता हूं.

सरफराज ने कहा, जब तक जदयू सेक्यूलर था, तब तक ठीक था। जब गठबंधन टूटा, तब मैंने वापसी की, मैं इतने दिनों तक लोगों की राय सुन रहा था और उसके बाद मैंने इस्तीफा दिया