rs 640x341

उत्तर प्रदेश के पूर्व सांसद राम सकल का एक विडियो विअरल हो रहा है. जिसमे वे मिर्जापुर जिले के शहर कोतवाली के अंदर पुलिसवालों को गालियां दे रहे है. इस मामले में शनिवार रात शहर कोतवाली पुलिस ने उन पर एफआईआर दर्ज की है.

मीरजापुर-सोनभद्र से सांसद रह चुके राम सकल पर फतहां चौकी प्रभारी की तहरीर पर भारतीय दंड विधान की धारा-147 (बलवा करने), 353 (सरकारी काम में बाधा डालने के लिए लोकसेवक पर हमला करना) और 504 (गाली-गलौज कर अपमानित करना) के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है और मामले की जांच में जुट गई है.

व्हाट्सऐप और फेसबुक पर वायरल हो रहे वीडियो में पूर्व सांसद राम सकल पार्टी कार्यकर्ता को छुड़ाने के लिए शहर कोतवाली पुलिस पर कुछ अंदाज में सत्ता का रौब दिखा रहे हैं, ‘आज तुम्हारे एसपी की ऐसी-तैसी करेंगे…साला कौन वहां का चौकी इंचार्ज है…अश्वनी त्रिपाठी है….मादर.. कहीं के…दिमाग खराब किया है…आइस्ते-आइस्ते रहो…बीजेपी की सरकार है…सपा की सरकार नहीं है…’

गौरतलब है कि शहर कोतवाली पुलिस बीजेपी के कथित एक कार्यकर्ता को पुलिस चौकी में हंगामा करने के आरोप में कोतवाली ले आई थी जिसे छुड़ाने के लिए पूर्व सांसद और बीजेपी नेता राम सकल शहर कोतवाली पहुंचे और पुलिसकर्मियों को गालियाँ दी.

बता दें कि बीजेपी के वरिष्ठ नेता राम सकल सोनभद्र के रॉबर्ट्सगंज (सुरक्षित) लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से 1996, 1998 और 1999 में कुल तीन बार सांसद निर्वाचित हुए थे. बाद में उन्होंने मिर्जापुर के फतहा पुलिस चौकी क्षेत्र के निवासी हो गए.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें