शादियों में बेतहाशा खर्च और भारी दहेज़ की मांग के कारण गरीब परिवारों की लडकियों के रिश्तें करना उनके परिजनों के लिए मुश्किल हो गया हैं. ऐसे में मेवात में दहेज के लेनदेन पर रोक लगा दी गई हैं. इसी के साथ शादियों में फिजूलखर्ची रोकने के लिए मेहमानों की संख्या भी निर्धारित कर दी गई हैं.

विवार को बीसरू रोड स्थित मरकज के सामने हुई महापंचायत में ये फैसला लिया गया हैं. जिसके अनुसार दहेज के लेनदेन पर पूरी तरह रोक होगी. साथ ही बारात और सगाई में केवल 10 ही लोग जा सकेंगे. यदि इस फैसले का कोई उल्लंघन करता हैं तो पहले उस परिवार को समझाया जाएगा और न मानने पर ऐसे परिवारों का न केवल हुक्का पानी बंद किया जाएगा बल्कि उनका बिरादरी में बहिष्कार किया जाएगा.

इस महापंचायत में हरियाणा के अलावा राजस्थान, मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश और दिल्ली के मौजिज लोगों ने हिस्सा लिया. पंचायत में धार्मिक उलेमा, नेतागण, समाजसेवी, सहित कई बुद्धिजीवी भी शामिल हुए.

गौरतलब रहें कि हाल ही में कश्मीर में भी राज्य सरकार ने इसी तरह का फैसला लिया हैं. ब लड़की की शादी के लिए 500 मेहमानों को ही आमंत्रित किया जा सकेगा जबकि लड़के की शादी के लिए 400 लोगों को ही बुलाया जा सकेगा. इसके अलावा सगाई और मंगनी समारोहों के लिए केवल 100 मेहमानों को ही बुलाया जा सकेगा.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?