source: iStock

झारखंड के गिरिडीह ज़िले में कथित तौर पर भूख से वृदधा की मौत के बाद भूख से मौत का एक और मामला सामने आया है।

चतरा ज़िले मे सोमवार रात तकरीबन नौ बजे 45 वर्षीय मीना मुसहर की भूख से मौत हो गई। गया ज़िले के बाराचट्टी की मूल निवासी मीना के बेटे गौतम मुसहर ने बताया कि पिछले चार दिन से कुछ नहीं खाया था।

गौतम मुसहर ने बताया, ‘तीन चार दिन से कोई कमाई नहीं हुई थी, इसलिए हम दोनों भूखे थे. सोमवार की शाम को मां की तबीयत बिगड़ी तो इलाज कराने या दवा खरीदने के भी पैसे नहीं थे। मैं कंधे पर उठाकर उन्हें अस्पताल लेकर गया लेकिन डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इटखोरी प्राथमिक चिकित्सा केंद्र के प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉ. डीएन ठाकुर ने कहा कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बाद ही स्पष्ट रूप से मौत के कारणों का पता चल सकेगा। उन्होंने कहा कि महिला का बेटा उन्हें अस्पताल लेकर आया था, लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी।

वहीं अंचलाधिकारी दिलीप कुमार ने कहा, ‘बीमारी से मौत होने का मामला लग रहा है. महिला को जानने वाले बता रहे हैं कि उसे टीबी की बीमारी थी।’ एसडीओ राजीव कुमार ने कहा, ‘जांच के बाद ही मौत के कारणों का पता चल सकेगा. अभी कुछ कहना जल्दबाज़ी होगी।

बता दें कि इससे पहले डुमरी प्रखंड के मंगरगढ़ी गांव में 62 वर्षीय महिला सावित्री देवी ने तीन दिन से कुछ खाने को नहीं मिलने के बाद तड़प-तड़प कर दम तोड़ दिया था। वृद्धा की बहू पूर्णिमा ने बताया कि घर की माली हालत काफी खराब है। पिछले तीन दिनों से वृद्धा को भोजन नहीं मिला था. जिससे उसकी मौत हो गई।

Loading...