media and rape false news
अब तक आपने मीडिया को बलात्कार एवं दुष्कर्म पीडि़ता की मदद तथा आरोपी पक्ष के खिलाफ आवाज को बुलन्द करते हुऐ देखा सुना होगा लेकिन मथुरा में मीडिया के कई प्रमुख समाचार पत्र के पत्रकारों ने काली कमाई की चाहत में कोर्ट के निर्णय को छिपाते हुऐ पीडि़ता छात्रा द्वारा करीब 1 साल पूर्व दिऐ गये शपथ पत्र के आधार पर आरोपी वरिष्ठ पत्रकार कमलकान्त उपमन्यु को निर्दोश बताकर खबर के साथ ही बलात्कार का एक नया इतिहास रचा है।
जबकि मथुरा न्यायालय द्वारा अपने निर्णय में पीडि़ता छात्रा/आरोपी पक्ष तथा आपत्ति कर्ता को उच्च न्यायालय में अपना पक्ष रखकर विचाराधीन याचिका के निस्तारण होने तक सुनवाई पर रोक लगाई गई है। उक्त मामला हाईकोर्ट इलाहाबाद तथा मथुरा न्यायलय में विचाराधीन है के बावजूद प्रमुख समाचार पत्रों द्वारा एक वर्ष पूर्व के शपथ पत्र के आधार पर ही आरोपी बलात्कारी को रविवार 7 फरवरी 2016 को निर्दोश का करार दे दिया गया।
लेकिन ‘विषबाण’ नामक समाचार पत्र ने उक्त खबर की सच्चाई को प्रकाशित कर पत्रकारिता की साख को बनाये रखा गया है। जिसके लिये वह धन्यवाद का पात्र है।
 
निवेदक 

तनुज अग्रवाल
समाजसेवक


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें