उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की उस मांग को ठुकरा दिया हैं. जिसमे उन्होंने आगामी MCD चुनाव में ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी की आशंका जाहिर करते हुए बैलेट पेपर से मतदान कराने की मांग की थी. केजरीवाल की इस मांग का कांग्रेस ने भी समर्थन किया था.

उपराज्यपाल अनिल बैजल ने कहा कि 22 अप्रैल को राष्ट्रीय राजधानी में होने वाले नगर निगम चुनाव में ईवीएम का ही इस्तेमाल किया जाएगा. उन्होंने कहा, समय की कमी के कारण मतदान का माध्यम बदलना संभव नहीं है. केजरीवाल के अलावा दिल्ली में कांग्रेस, एनसीपी, जदयू, सीपीआई, सीपीएम भी यही मांग कर रहे थे. दिल्ली में 22 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे और 25 अप्रैल को नतीजे आएंगे.

उपराज्यपाल ने दिल्ली सरकार से कहा कि ईवीएम का इस्तेमाल रोकने के लिए नियमों में संशोधन करना होगा और चुनाव में करीब एक महीने का समय बचा होने के कारण बदलाव करना संभव नहीं है. पंजाब विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के खराब प्रदर्शन के बाद केजरीवाल ने आरोप लगाया था कि ईवीएम में गड़बड़ी करके आम आदमी पार्टी के वोट अकाली दल को हस्तांतरित किये गए.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय सिंह ने कहा कि ‘UP में भी नगर पालिका और नगर पंचायत के चुनाव मतपत्र से होते हैं, दिल्ली एमसीडी के चुनाव भी मतपत्र से कराये जा सकते हैं.’ संजय सिंह ने कहा कि पंजाब चुनाव जीतने वाली कांग्रेस को भी ईवीएम पर संदेह है, बसपा को भी संदेह है और दूसरी पार्टियों भी संदेह है यही नहीं बीजेपी जब तक विपक्ष में थी तब तक उसके नेता और समर्थक ईवीएम पर सवाल उठाते थे तो ऐसे में मतपत्र से चुनाव कराने में क्या हर्ज है?

Loading...