2002 में हुए गुजरात दंगों के दौरान रोदा पाटिया इलाके में हुए दंगे के मामले की दोषी गुजरात की पूर्व मंत्री और बीजेपी नेता माया कोडनानी ने कोर्ट में अर्जी देकर इस मामलें में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह समेत 14 लोगों के बयान दर्ज कराना चाहती हैं.

कोडनानी द्वारा पिछले महीने कोर्ट में इस बारें में आवेदन दाखिल किया गया हैं. सोमवार को इस मामले में सुनवाई होगी. कोडनानी के वकील अमित पटेल से कोर्ट ने कहा कि पहले ये बताएं कि इन लोगों को समन जारी कर क्यों बुलाना चाहिए. आपके पास कुछ पुख्ता जानकारी है तो आप हमें बताएं. इसके साथ ही कोर्ट ने कहा कि आपकी याचिक इस मामले में कितनी उचित है .

कोडनानी द्वारा कोर्ट में जमा कराए गए आवेदन के अनुसार अमित शाह के अलावा कोडनानी उन लोगों का बयान दर्ज कराना चाहती हैं जिनसे दंगों के समय उनकी मुलाकात हुई थी. कोडनानी का कहना है कि दंगों में उनका कोई हाथ नहीं है. कोडनानी का कहना है कि उनकी मुलाकात अमित शाह से विधानसभा और सोला सिविल अस्पताल में हुई थी और इन्हीं के साथ मेरी कई अन्य लोगों से भी मुलाकात हुई थी जिनका बयान इस मामले में दर्ज करना जरूरी है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

याद रहे 2002 में हुए दंगों के दौरान अहमदाबाद में स्थित नरोदा पाटिया इलाके में 97 लोगों की हत्या कर दी गई थी. जिनमे ज्यादातर अल्पसंख्यक समुदाय के लोग थे. 29 अगस्त को न्यायधीश ज्योत्सना याग्निक की अध्यक्षता वाली अदालत ने इस मामलें में माया कोडनानी और बजरंग दल के नेता बाबू बजरंगी को हत्या और षड़यंत्र रचने का दोषी पाया था.

Loading...