mand123

मध्य प्रदेश के मंदसौर में एक नाबालिग बच्ची से बलात्कार के मामले मे पुलिस ने आरोपियों के ख़िलाफ 14 दिनों के अंदर चार्जशीट दाखिल कर दी है। तकरीबन 350 पन्नों की इस चार्जशीट में दोनों आरोपियों के खिलाफ 100 साक्ष्य और 92 गवाहों के बयान दर्ज किए गए हैं।

मामले की जांच के लिए गठित एसआईटी का नेतृत्व करने वाले सिटी सुपरिंटेंडेंट राकेश मोहन शुक्ला ने बताया कि दोनों आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धाराओं 363, 376(2) और 307 के तहत और पॉस्को एक्ट की धाराओं 5 और 6 के तहत चार्जशीट दाखिल की गई है। इन दोनों आरोपियों को उनके खिलाफ आरोप पत्र पेश करने के बारे में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये जेल में ही बता दिया गया है। दोनों आरोपी मंदसौर की जेल में हैं और सुरक्षा कारणों से उन्हें जेल में पेश नहीं किया गया।

मंदसौर के पुलिस अधीक्षक मनोज सिंह ने बताया कि आरोप पत्र पेश करने के साथ ही इस मामले की हर रोज सुनवाई करने के लिए रास्ता साफ हो गया है। वहीं लोक अभियोजन बी एस ठाकुर ने बताया कि हम पूरी कोशिश करेंगे की इस मामले की सुनवाई एक महीने में पूरा हो जाये।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

mand11

बता दें कि मंदसौर में 26 जून को 7 साल की बच्ची के साथ गैंगरेप हुआ था, जिसके बाद बच्ची स्कूल के पास ही झाड़ियों मे मिली थी। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज की मदद से इरफान नाम के आरोपी को गिरफ्तार किया था। इरफान से पूछताछ के बाद पुलिस ने 29 जून को आसिफ को भी गिरफ्तार किया था। हालांकि आसिफ के परिजनों ने उसे निर्दोष बताया। मामले कि जांच एसआईटी कर रही है।

एसआईटी प्रमुख राकेश मोहन शुक्ल ने कहा, ‘मंदसौर गैंगरेप मामले में हमने आरोपी इरफान और आसिफ के खिलाफ उपसंचालक अभियोजन की स्वीकृति के बाद आरोपपत्र अदालत में प्रस्तुत किया है जो माननीय न्यायालय पॉस्को द्वारा संज्ञान ले लिया गया है।’

Loading...